अगर आपके पास कोई ऐसी गाड़ी है जिसे आपने कई सालों से इस्तेमाल नहीं किया है और वो खड़े-खड़े कबाड़ बनती जा रही है तो ये खबर आपके बहुत काम की है।

आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन आपकी कबाड़ हो चुकी कार भी आपको अच्छे खासे पैसे दिलाने वाली है। दरअसल महिंद्रा एक्सेलो ने सरकारी कंपनी MSTC के साथ देश की पहली ऑटोमेटेड और ऑर्गेनाइज्ड व्हीकल स्क्रैपिंग और रीसाइकलिंग प्लांट शुरू किया है। इस प्लांट को ग्रेटर नोएडा में खोला गया है।

 

महिंद्रा एक्सेलो और सरकारी कंपनी MSTC ने मिलकर कबाड़ वाहनों की स्क्रैपिंग और रीसाइकलिंग के लिए CERO नाम से कंपनी की शुरुआत की है। न सिर्फ कार, बल्कि ट्रक, बस, स्कूटर, बाइक से लेकर इंडस्ट्रीयल कबाड़ भी ये कंपनी खरीद रही है। कंपनी आने वाले वर्षों में कंपनी देशभर में अपने इस प्लांट के विस्तार की योजना बना रही है। बता दें इस नई कंपनी में महिंद्र एक्सेलो और MSTC की एक समान हिस्सेदारी है। दोनों कंपनियों ने इस प्लांट को 5 एकड़ जमीन में बनाया है और यहां पुराने वाहनों को लाकर उन्हें स्क्रैप और रीसाइकिल किया जाता है।

 

अगर आपके पास कोई पुराना वाहन है और वह बिल्कुल खराब पड़ा है तो इसके बारे में आप CERO को जानकारी दें। इसमें आप ब्रैंड, मॉडल, रजिस्ट्रेशन का साल, रनिंग कंडीशन, पुराने वाहन का लोकेशन आदि शामिल हैं। कंपनी को ये सभी जानकारी देने के बाद आपके वाहन पर जो बेस्ट कॉस्ट सामने आएगी वह आपको दी जाएगी। इतना ही नहीं कंपनी की और से आपके दूसरे ऑफर्स भी दिए जाएंगे। हालांकि, यह ऑफर्स अभी सिर्फ दिल्ली-NCR के लिए ही है। कंपनी द्वारा दिए जा रहे ऑफर्स से अगर आप सहमत हैं तो आपके द्वारा दिए गए समय और लोकेशन पर आ जाएगी। इसके बाद कंपनी आपके पुराने वाहन और सभी दस्तावेजों की ठीक से जांच करने के बाद आगे का प्रोसेस शुरू कर दिया जाएगा।

अगर आप भी अपनी पुरानी गाड़ी बेचना चाहते हैं तो cerorecycling.com पर जाएं और ‘रिक्वेस्ट अ कॉल’ पर क्लिक करें। कंपनी खुद आपको फोन करेगी और आपकी गाड़ी घर से लेकर जाएगी। CERO की वेबसाइट के मुताबिक, कंपनी की ओर से पुराने वाहन की आकर्षक कीमत के साथ-साथ दूसरी सेवाएं जैसे बिना अतिरिक्त शुल्क के टोइंग दी जाएगी। कार के सभी दस्तावेजों को चेक करके उसे स्क्रैप करने के लिए ग्रेटर नोएडा स्थित प्लांट में ले जाया जाता है और फिर उन वाहनों को वर्ल्ड क्लास टेक्नोलॉजी के जरिए तोड़ा और नष्ट किया जाता है। यह टेक्नोलॉजी कंपनी को यूरोप और अमेरिका से इंपोर्ट की गई है। बता दें, कंपनी स्क्रैप कार का डीरजिस्ट्रेशन भी करती है और कार मालिक को डीरजिस्ट्रेशन का सर्टिफिकेट भी देती है।

 

आपकी स्क्रैप कार की कीमत वाहन के कंडीशन, उसकी उम्र के हिसाब से अलग-अलग दी जाएगी। इतना ही नहीं कार मालिक अपनी कार CERO को दान में भी दे सकते हैं। महिंद्रा NGO से CERO का टाईअप है, जो वंचित तबके की लड़कियों की शिक्षा के लिए काम करता है। इस NGO के जरिए कार मालिक को 80G सर्टिफिकेट दिया जाता है, ताकि उसे टैक्स की छूट मिल सके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here