भारत के किसी हाईवे पर आपको लंबा सफ़र करना हो और भूख लगी हो तो आपकी निगाहें सीधे किसी ढाबे की तलाश में व्यस्त हो जाएँगी.
आपको याद आने लगेगा पप्पू ढाबा या शेरे पंजाब ढाबा या बहुत मॉडर्न हुआ, तो मोहन या जालंधर ईटिंग प्लेस.

लेकिन अब लगता है कि वो दिन दूर नहीं जब आपको हाईवे पर नामी कंपनियों के शानदार ढाबे नज़र आने लगेंगे.

दरअसल विशेषज्ञों का मत है कि ये एक ऐसा क्षेत्र हो सकता है जहाँ पैसे लगाए जाएँ तो कारोबार बढ़िया जम सकता है.

शायद इसी को निगाह में रखकर अब बॉबी देओल देश भर में राजमार्गों पर ढाबे खोलने जा रहा है.

बॉबी देओल भारत में ढाबे खोलनेवाली पहली बड़ी कंपनी होगी.

बॉबी देओल के ‘ढाबे’

भारत में सड़कों का जाल तेज़ी से बढ़ता जा रहा है जिससे संभावनाएँ काफ़ी हैं वह देश भर में ऐसे 145 ढाबे खोलने जा रही है जहाँ खाने-ठहरने का इंतज़ाम होगा.

प्रवक्ता के अनुसार ढाबे दो तरह के होंगे. एक का नाम होगा ‘ए-1 प्लाज़ा’ और दूसरे का ‘रिफ़्रेश’.

ए-1 प्लाज़ा में आम ड्राइवर, कंडक्टरों के खाने-ठहरने की व्यवस्था होगी वहीं रिफ़्रेश में ऊँचे दर्जे वाले ऐसे लोग जा सकते हैं जो अधिक पैसे दे सकते हों.

लेकिन दोनों ही जगह तमाम आधुनिक सुविधाओं के बावजूद ढाबे की उस छवि को बरक़रार रखा जाएगा जो ढाबे की पहचान है.

 

बॉबी देओल का पहला ढाबा बहुत जल्दी मुरथल के शहर के निकट शुरू होने जा रहा है.

संभावना

विशेषज्ञों का मत है कि ढाबे के कारोबार में बॉबी देओल के कूद पड़ने के बाद इस क्षेत्र में बड़ी कंपनियों के बीच होड़ शुरू हो सकती है.

लेकिन अभी भारत में जिस तरह से एक्सप्रेस हाईवे और मल्टीलेन हाईवे बनते जा रहे हैं उन्हें देखते हुए ढाबों के कारोबार में कमाई की प्रचुर संभावनाएँ नज़र आ रही हैं.


Also published on Medium.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here