fbpx
Connect with us

विशेष

अगले 36 घंटे में पहाड़ में भारी बारिश का अनुमान, इन 7 जगह पर ऑरेंज अलर्ट जारी

Published

on

उत्तराखंड में अगले 36 घंटों के लिए मौसम विभाग ने भारी से भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. प्रदेश में भारी बारिश से अब पहाड़वासियों की मुश्किलें भी बढ़ गई है. मौसम विभाग ने अनुमान जताया है अगले 36 के लिए प्रदेश में नैनीताल, चम्पावत, पिथौरागढ़, उधमसिंहनगर, देहरादून, हरिद्वार और पौड़ी गढ़वाल में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए शासन ने सभी जिलों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश दिए है.

प्रदेश में भारी बारिश का दिखने लगा है असर
प्रदेश के कई जिलों में वर्तमान में बारिश हो रही है. उत्तरकाशी में यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग ओजरी डाबरकोट में लगातार बड़े-बड़े बोल्डर और मलबा आने के कारण बाधित हो रहा है साथ ही गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग भी उत्तरकाशी से बडेथी में बारिश के लिए भूस्खलन से बाधित हो रहा है. प्रदेश में बारिश से कई ग्रामीण सड़के बंद हैं, जिससे लोगों का आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. देहरादून के चकराता, त्यूणी क्षेत्र में ग्रामीणों को पेयजल और स्वास्थ्य सुविधाओं से जूझना पड़ रहा है. राजधानी देहरादून में बारिश से कई इलाकों में जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है. नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है.

ग्रामीण सड़कों की स्थिति सबसे ज्यादा खराब
पहाड़ में भारी बारिश से ग्रामीण सड़के सबसे ज्यादा प्रभावित है. देहरादून में 1 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध है. पिथौरागढ़ में 3, रुद्रप्रयाग में 6, चमोली में 2, टिहरी में 3 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध है. सबसे ज्यादा दिक्कत पौड़ी गढवाल में है, जहां 3 राज्य मार्ग और 10 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध है. नैनीताल में 2 और बागेश्वर में 2 ग्रामीण मार्ग ब्लॉक हैं.

उत्तरकाशी में सबसे ज्यादा स्थिति नौगांव, पुरोला, मोरी ब्लाक में है, जहां कई गांव आज भी सड़कों से जुड़ नहीं सके. टिहरी में घनसाली और प्रतापनगर क्षेत्र में मुश्किलें ज्यादा है. पौड़ी में थलीसैंण, नैनीडांडा, रिखणीखाल सहित कई ब्लाक में ग्रामीण मार्ग कई दिनों से बंद पड़े हैं. रुद्रप्रयाग में ऊखीमठ और जखोली ब्लाक भारी बारिश की दृष्टि से काफी संवेदनशील है. सबसे मुश्किल स्थिति चमोली गढ़वाल में है, जहां जोशीमठ, देवाल, घाट और नारायणबगड ब्लाक में बरसात के समय ग्रामीणों की जिन्दगी कालापानी की सजा जैसी हो जाती है. जोशीमठ ब्लाक के उर्गम घाटी में एक पुल बहने से करीब 5 गांवों के डेढ़ सौ परिवारों का संपर्क कट गया है. बागेश्वर और पिथौरागढ में भी स्थिति बेहद नाजुक है.

सभी जिलों के लिए अलर्ट जारी 
राज्य में भारी बारिश के अलर्ट के बाद शासन ने सभी जिलों को अलर्ट कर दिया है. शासन की तरफ से मॉनसून में किसी भी तरह की आपदा से निपटने के लिए करीब 110 करोड़ धनराशि जारी की जा चुकी है. आपदा प्रबंधन सचिव अमित नेगी ने कहा कि बारिश से राज्य में हर साल काफी जान माल का नुकसान होता है. इसलिए इस बार सभी जिलों को पहले ही धनराशि जारी कर दी है.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *