Connect with us

विशेष

अभी-अभी : सेना का बड़ा ऐलान, कहा-आ’तंकियों की मदद करने वाले पत्थरबाज भी जिंदा नहीं बचेंगे

Published

on

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आ’तंकी हमले और उसके बाद चले एनकाउंटर को लेकर आज सुरक्षाबलों की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में CRPF, जम्मू-कश्मीर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। इनमें चिनार कॉर्प्स के लेफ्टिनेंट जनरल केजीएस ढिलौन्न, श्रीनगर के आईजी एसपी पाणी, CRPF के आईजी जुल्फिकार हसन और GoC विक्टर फोर्स के मेजर जनरल मैथ्यू शामि

साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में चिनार कॉर्प्स के लेफ्टिनेंट जनरल केजीएस ढिलौन्न ने कहा कि हम लोग पिछले काफी समय से जैश ए मोहम्मद के आ’तंकियों पर नजर बनाए हुए थे। जैश के आ’तंकियों ने ही पुलवामा में आ’तंकी हमला किया था। हमने पुलवामा हमले के 100 घंटे के अंदर घाटी में मौजूद जैश की लीडरशिप को खत्म कर दिया है।

उन्होंने जम्मू-कश्मीर की महिलाओं से अपील करते हुए कहा कि वह अपने बच्चों को समझाएं और उन्हें सरेंडर करने को कहें। उन्होंने कहा कि सेना के पास सरेंडर पॉलिसी है, अब अगर जो भी सेना के खिलाफ बंदूक उठाएगा वो मारा जाएगा। उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते हैं कि कोई भी नागरिक घायल हुए। सेना के अफसरों ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि पुलवामा में हुए आ’तंकी हमले के पीछे ISI का हाथ था, उनकी मदद से ही जैश ने हमला किया था।

पुलवामा में हुआ था आ’तंकी हमला : आपको बता दें कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जैश ए मोहम्मद के आ’तंकी ने CRPF के काफिले पर हमला कर दिया था। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे, जिसके बाद से ही पूरा देश आक्रोश में है।

पुलवामा में ही चला था एनकाउंटर : पुलवामा हमले के बाद वहां पर एक ऑपरेशन भी चलाया गया था। जिसमें पुलवामा आ’तंकी हमले के मास्टरमाइंड कामरान उर्फ गाजी राशिद को मार गिराया गया था। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आ’तंकियों को मार गिराया था। जबकि सेना के 5 जवान शहीद हुए थे।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *