Connect with us

विशेष

आज डिप्टी कलेक्टर बन गई है गरीब पान वाले की बेटी..हौंसलों के आगे धरी रह गई पैसों की कमी

Published

on

ऐसा कहा जाता ही की गरीब परिवार के बच्चे पढ़ने में काफी होशियार होते हैं. गरीब बच्चो की अपेक्षा अमीर बच्चे अय्याशियों में काफी माहिर होते हैं. गरीब परिवार के बचपन से ही पैसा कमाने के बड़े बड़े सपने देखने लग जाते है जिसको पूरा करने के लिए वह दिन रत एक कर देते है. शुरुआत में तो उन्हें ऐसा लगता है की भगवान् उन पर मेहरबान नहीं है लेकिन जब भगवान उन पर मेहरबान होता है तो वाकई उनकी किस्मत बदल जाती है.

कुछ ऐसा ही हुआ एक गरीब परिवार के साथ भी. एक लड़की ने कुछ ऐसा कर के दिखाया जिससे उनका परिवार ही नहीं पूरा देश उस परिवार और उस लड़की पर गर्व महसूस कर रहा है. आपकी जानकारी के लिए बता दे की मध्य प्रदेश के मंडला जिले के शरद जैन परिवार इन दिनों काफी चर्चा का विषय बना हुआ है.

पान वाले की बेटी बनी डिप्टी कलेक्टर

deputy-collector-ayushi-jain-story

शरद जैन की एक पान की दुकान चलते है. हालांकि गरीब परिवार होने के बाद भी उनकी बेटी डिप्टी कलेक्टर बन कर परिवार की खुशियों का भण्डार ले कर आ गई. शरद जैन पान की दूकान चलते है उनकी बेटी आयुषी जैन ने MPPSC की परीक्षा में दसवां स्थान हासिल कर अपने नाम के डिप्टी कलेक्टर लगा लिया है.

इंटरव्यू में पूछा पिता का पैशा

deputy-collector-ayushi-jain-story

आयुषी जैन से MPPSC के इंटरव्यू में एक सवाल उनके पिता के बारे में भी पूछा गया था. उनसे पूछा गया था की आपके पिता का पेशा क्या है? जिसका जवाब आयुषी ने दिया था की मेरे पिता पान की दुकान चलाते हैं. मेरे पिता लंबे समय से यह काम करैत है जो उनका पेशा रहा है.

सरकारी स्कूल से की पढ़ाई

deputy-collector-ayushi-jain-story

आयुषी ने अपनी पढ़ाई किसी बड़े स्कुल से नहीं बल्कि सरकारी स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की है. आयुषी ने अपने जीवन की बाते बताते हुए कहा की जीवन में कठिन परिस्थितिया होने के बाद भी उन्होंने कभी हार नहीं मानी.

परिवार ने बाटी मिठाई

deputy-collector-ayushi-jain-story

अपनी बेटी के डिप्टी कलेक्टर बनने की ख़ुशी परिवार में देखने लायक है. शरद जैन अपने परिवार के साथ मोहल्ले में मिठाइयां बटवा रहे हैं.

2015 से तैयारियां की शुरू

deputy-collector-ayushi-jain-story

आयुषी जैन ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद 2015 में MPPSC की तैयारी प्रारम्भ कर दी थी. आयुषी अपने पहले ही अटेंप्ट में टैक्स इंस्पेक्टर बन गई थी. लेकिन सेल टैक्स इंस्पेक्टर बनने के बाद उनका हौसला काफी बढ़ गया था और उन्होंने आगे बढ़ने के लिए और पढ़ाई की. और वह सफल हुई.

बहन ने इस तरह जाहिर की ख़ुशी

deputy-collector-ayushi-jain-story

अपने सेकंड अटेम्प्ट में डिप्टी कलेक्टर का पद प्राप्त करने वाली आयुषी की बड़ी बहन ने अपनी ख़ुशी का जिक्र करते हुए कहा की छोटी बहन की कामयाबी से वह काफी खुश हैं. उनकी बहन का कहना है की आयुषी की तरह वह भी डिप्टी कलेक्टर बनना चाहती है. उनके पिता का भी कहना है की उनकी दूसरी बेटी भी डिप्टी कलेक्टर बन जाए तो उनका सिर गर्व से ऊंचा हो जाएगा.

deputy-collector-ayushi-jain-story

deputy-collector-ayushi-jain-story

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *