Connect with us

विशेष

कटरा त्रिकुट पर्वत छोड़कर परमधाम चली जाएंगी मां वैष्णों देवी…जानिए कब आएगा वो समय

Published

on

जब-जब जगत में धर्म की हानि हुई है तब तब देवी देवताओं ने धर्म की रक्षा को पृथ्वी पर अवतार दिया है इसी तरह से त्रेता युग में महासरस्वती ,महालक्ष्मी और महादुर्गा ने अपने सामूहिक बल से धर्म की रक्षा के लिए एक कन्या (बालिका,छोटी बच्ची ) रुप में दक्षिणी के समुंद्री तट के समीप (रामेश्वर) राजा रत्नाकर की पुत्री के रुप में अवतरित हुई राजा ने कन्या का नाम त्रिकुटा रखा परंतु भगवान विष्णु के अंश से प्रकट होने के कारण कन्या का नाम वैष्णवी के नाम से विख्यात हुआ।

नव वर्ष की होने पर कन्या को मालूम हुआ श्री विष्णु भगवान ने पृथ्वी पर भगवान राम के रुप में अवतार लिया है तब वह श्रीराम को पति मानकर उन्हें पाने के लिए कठोर तपस्या करने लगी श्री राम सीता मैया को सीता माता को खोजते खोजते रामेश्वर तट पर पहुंचे तो वहां कन्या को ध्यान मग्न मुद्रा में देख अचरज हुआ मां वैष्णवी ने उन्हें अपनी पत्नी रूप में स्वीकारने को कहा श्री राम ने कहा इस जन्म में सीता से विवाह कर चुका हूं परंतु कलयुग में मैं कल्कि अवतार लूंगा तब मैं तुम्हें अपनी पत्नी के रुप में स्वीकार लूंगा तब तक तुम त्रिकुट पर्वत पर जाकर तप करो और भक्तों को कष्ट दूर करो और विश्व का कल्याण करती रहो।

तो दोस्तों जब कल्कि अवतार होगा तो मां वैष्णों देवी का उनसे विवाह होगा और माता त्रिकूट पर्वत छोड़कर चली जाएंगी। जब राम ने रावण से युद्ध कर विजय प्राप्त की तब से मां वैष्णवी ने नवरात्रों मनाने का निशचय किया इसलिए हम नवरात्रों के साथ विजयदशमी मनाते हैं।

अगर आप कटरा की यात्रा पर जाना चाहते हैं तो इन बातों का ध्यान दें :   

यात्रा पर्ची : यात्रा पर्ची श्राइन बोर्ड द्वारा श्री मां वैष्णो देवी यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होता है यह यात्रा पर्ची आप जम्मू बस स्टैंड के पास कटरा रेलवे स्टेशन पर जम्मू रेलवे स्टेशन के पास श्राइन बोर्ड द्वारा चलित संचालित यात्री निवास से भी बनवा सकते हैं अब ऑनलाइन की पर्ची आप बनवा सकते हैं पर यह निशुल्क नहीं है।

यह अनिवार्य है यात्रा आरंभ करने के स्थान पर यह पर्ची दिखाना आवश्यक है यात्रा का स्थान यात्रा आरंभ करने के स्थान पर कोई भी यात्री पर्ची नहीं बनती है इसे संभालकर रखें जब आप भवन पहुंचेंगे तब यह पर्ची आप से ले ली जाएगी 3 साल से छोटे बच्चों के लिए पर्ची मनवाना अनिवार्य नहीं है।

जम्मू से कटरा (माँ वैष्णो देवी की यात्रा चालू होती है ) 44.7 KM दूर है यात्री ट्रेन, बस या टैक्सी ले कर 2 घंटे में कटरा पहुंच सकते है, Shri Mata Vaishno Devi Shrine Board Katra (SMVDSB) द्वारा यात्रियों ठहरने व् आराम करने के लिए जगह जगह COMPLEX बनाए है

जम्मू के रेलवे स्टेशन के पास Vaishnavi Dham जहाँ आप को Dormitory (एक बड़े हाल में 10 – 12 पलंग ),रूम a/c non a/c कम किराय पर आसानी के मील जाते है (व्यक्तिगत रूप से कहू तो साफ साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जाता है)

ट्रेन द्वारा :ट्रेन द्वारा यदि आप ट्रेन द्वारा यात्रा कर रहे हैं तो यह सुविधा अब तक जम्मू स्टेशन तक ही उपलब्ध थी लेकिन अब कई ट्रेनें कटरा स्टेशन तक जाती है अधिकतर डेमू ट्रेन अर्थात लोकल ट्रेन आपको जम्मू से कटरा के लिए आसानी से उपलब्ध है

जैसे ही आप कटरा स्टेशन पहुंचते हैं तो स्टेशन पर ही यात्रा पर्ची बनवा लेने की सुविधा उपलब्ध है आप वहां से यात्रा पर्ची बनवाएं और यात्रा आरंभ कर सकते हैं ध्यान रखिएगा यात्रा पर्ची बनवाने के 6 घंटे के अंदर ही आपको मुख्य काउंटर पर पहुंचना होता है (बाण गंगा) के जहां पर यात्रा पर्ची की एंट्री होती है

हवाई जहाज द्वारा : जम्मू एयरपोर्ट से कटरा लगभग 49 किलोमीटर दूर है जहां से आप टैक्सी द्वारा कटरा लगभग दो से 2 घंटे में आसानी से पहुंच सकते हैं दिल्ली से जम्मू रोजाना फ्लाइट चलती है लगभग 80 मिनट लगते हैं दिल्ही से जम्मू पहुंचने में

बस द्वारा : यदि आप बस द्वारा यात्रा करना चाहते हैं जम्मू स्टेशन से बाहर निकलते पास ही में जम्मू से कटरा बस आसानी से मिल जाती आप आसानी से वहां से कटरा के लिए सीधी बस ले सकते हैं, जम्मू स्टेशन से कटरा लगभग 50 KM दूर है ,लगभग दो घंटे में आप कटरा बस स्टेण्ड पहुंच जाते है,

बस स्टैंड के पास ही यात्रा पर्ची काउंटर है वहां से आप यात्रा पर्ची बना सकते हैं बनवा सकते हैं, यह जरूरी है, यात्रा प्रारंभ करने के स्थान पर कोई भी यात्रा पर्ची नहीं बनती यह आपको असुविधा में डाल सकती है कृपया बस स्टैंड से ही यात्रा पर्ची बनवाकर यात्रा आरंभ करें

यदि आप किन्ही कारणो से पैदल या घोड़े या समय की कमी के चलते जल्दी दर्शन करना चाहते है तो आप Helicopter

द्वारा भी यात्रा कर सकते है booking ऑनलाइन या कटरा बस स्टेण्ड के पास निहारिका भवन से भी करा सकते है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *