fbpx
Connect with us

विशेष

कश्मीर में अफरा-तफरी का माहौल; पेट्रोल पंप, ATM और राशन की दुकानों पर भारी भीड़

Published

on

बता दें कि कश्मीर में पर्यटकों और अमरनाथ यात्रियों के लिए घाटी छोड़ने के ताजा परामर्श से निवासियों के बीच भय पैदा हो गया है और उन्होंने कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की आशंका के चलते राशन और आवश्यक सामान जमा करना शुरू कर दिया।

 

केंद्र सरकार के कुछ फैसलों के बाद कश्मीर में अफरातफरी मची है और इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि वहां कुछ बड़ा होने वाला है। इसे लेकर जम्मू कश्मीर में तरह तरह की अफवाह भी हैं और सियासतदान इससे बेचैन हो गए हैं। सैनिकों की तैनाती और विभिन्न आदेशों से जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने जैसे कुछ बड़े फैसलों को लेकर अटकलें बढ़ गई है। कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की आशंका के चलते लोग शहर में तथा अन्य जगहों पर राशन और आवश्यक सामान खरीदने दुकानों के बाहर कतारों में दिखाई दिए। पेट्रोल पम्पों पर भी भारी संख्या में उपभोक्ता दिखाई दिए।

अफवाहों के चलते लोग अपने घरों में रोजमर्रा का सामान जमा करने लगे हैं। हालात ये हो गए हैं कि कई पट्रोल पंप पर पेट्रोल और डीजल खत्म हो गए हैं। एटीएम के बाहर भी लोगों की लंबी लाइन लगी देखी जा रही है। मेडिकल शॉप पर लोग जरूरत की दवाइयां खरीदते देखे जा रहे हैं।

वहीं आज स्कूल बंद करने की भी अफवाह फैली जिसके बाद जम्मू-कश्मीर के डिविजनल कमिश्नर बसीर अहमद खान ने कहा कि यहां कोई कर्फ्यू नहीं लगाया गया है और न ही अबतक ऐसा कोई फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि आज स्कूल बंद नहीं रहेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में शांति बनाए रखने के लिए गृह विभाग ने पुख्ता खुफिया सूचनाओं के आधार पर एडवाइजरी जारी की है।

राशन खरीदकर घर ले जाते लोग

बता दें कि कश्मीर में पर्यटकों और अमरनाथ यात्रियों के लिए घाटी छोड़ने के ताजा परामर्श से निवासियों के बीच भय पैदा हो गया है और उन्होंने कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की आशंका के चलते राशन और आवश्यक सामान जमा करना शुरू कर दिया।

जम्मू-कश्मीर बैंक के बाहर लगी लंबी कतार

राज्य सरकार ने अमरनाथ तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को परामर्श जारी कर तत्काल कश्मीर छोड़ने के लिए कहा है।

पेट्रोल पंप पर लोगों की भीड़ जमा

इससे पहले सेना ने कहा कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी घाटी में अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की फिराक में हैं। सेना ने हालांकि यह भी कहा कि सुरक्षा बल ऐसी किसी भी योजना को विफल करने के लिए मुस्तैद हैं।

ड्रम में भरकर पेट्रोल/डीजल ले जाता युवक

‘आतंकवादी कश्मीर की शांति में डालना चाहते हैं बाधा’

एडवाइजरी से पहले सेना के श्रीनगर स्थित 15 कॉर्प के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस. ढिल्लों, सीआरपीएफ के अतिरिक्त महानिदेशक जुल्फिकार हसन और राज्य के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस की. इस दौरान उन्होंने कहा कि पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी कश्मीर की शांति में बाधा डालना चाहते हैं और खास तौर से अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की योजना बना रहे हैं.

‘डर का माहौल बना रही है सरकार’

उधर, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी का कहना है कि राज्य में केंद्र सरकार डर का माहौल बना रही है. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने सवाल किया है कि अगर अमरनाथ यात्रियों को खतरा है तो गुलमर्ग को क्यों खाली कराया जा रहा है. उमर अब्दुल्ला ने ये भी कहा कि कश्मीर में सरकार का इरादा क्या है किसी को नहीं पता. उन्होंने कहा कि ऐसे हालात पैदा किए जा रहे हैं तो डर तो पनपेगा ही.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *