Connect with us

कोरोना वायरस

कोरोना ने तबाह किया परिवार, 18 दिन में पांच लोगों की मौत, परिवार में बचे हैं बुजुर्ग दादा और चार मासूम बच्चे

Published

on

एमपी के देवास जिले में एक परिवार पर कोरोना कहर बनकर टूटा है। 18 दिन के अंदर परिवार पूरी तरह से उजड़ गया है। कोरोना से बीते 18 दिनों में परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई। वहीं, घर की एक बहू सदमे में फांसी लगा ली है। उसके बाद परिवार में सिर्फ एक बुजुर्ग और मासूम बच्चे बचे हैं। रविवार को परिवार की बड़ी बहू का निधन हो गया है।

दरअसल, देवास के मैनाश्री नगर में रहने वाले बालकिशन गर्ग के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। वह अग्रवाल समाज देवास के अध्यक्ष हैं। सबसे पहले उनकी पत्नी चंद्रकला देवी का निधन कोरोना से हुआ था। 19 अप्रैल को बड़े बेटे संजय गर्ग का कोरोना से निधन हो गया। उसके बाद 20 अप्रैल को छोटे बेटे स्वपनेश गर्ग का भी कोरोना से निधन हो गया। पत्नी और दो बेटों के निधन से बालकिशन गर्ग टूट गए। वहीं, परिवार में कोहराम मच गया।

कोरोना ने तबाह किया परिवार, 18 दिन में पांच लोगों की मौत, परिवार में बचे  हैं बुजुर्ग दादा और चार मासूम बच्चे | FWN

छोटी बहू फांसी के फंदे पर झूल गई

परिवार पर आई आफत को घर की छोटी बहू रेखा गर्ग बर्दाश्त नहीं कर पाई। वह 21 अप्रैल को सदमे में अपनी जान दे दी। उसके बाद घर की स्थिति और खराब हो गई। परिवार में बुजुर्ग बालकिशन गर्ग और बड़ी बहू रितु बची थी। साथ में चार छोटे-छोटे बच्चे बचे हैं।

शिवराज सरकार को दवाओं की नहीं, चिताओं की चिंता, कांग्रेस ने शवदाहगृह बनाने  के फैसले पर तंज कसा

बड़ी बहू का भी निधन

इस दौरान बड़ी बहू रितु गर्ग भी कोरोना से संक्रमित हो गईं। संक्रमित होने के बाद इंदौर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रविवार को तबीयत ज्यादा बिगड़ गई, उसके बाद उन्होंने अस्पताल में अंतिम सांस ली है। अब परिवार में सिर्फ बालकिशन गर्ग और दोनों बेटों के चार छोटे बच्चे ही बचे हैं। सभी महिला सदस्यों को कोरोना ने लील लिया है।

गौरतलब है कि रविवार को एमपी में कोरोना के 12662 मरीज मिले हैं। वहीं, 94 लोगों की कोरोना से मौत हुई है। देवास में 114 मरीज मिले हैं। देवास में भी संक्रमण को रोकने के लिए कोरोना कर्फ्यू लागू है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *