Connect with us

विशेष

बला’त्कार या छेड़छाड़ का झूठा आरोप लगाने वाली लड़की को कोर्ट देगी ऐसी सज़ा..

Published

on

बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक महिला और उसके पति पर 25 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। नेहा गांधिर फील गुड इंडिया नाम की कंपनी से जुड़ी एक व्यवसायी हैं। ट्रेडमार्क उल्लंघन को लेकर उनका झगड़ा मुंबई की स्पाट एंड कंपनी से हो गया था और इसके बाद महिला ने इस कंपनी को झूठे यौ’न उत्पीड़न केस में फंसाने की धमकी देना शुरु कर दिया।

हरियाणा की व्यवसायी गांधिर ने मुंबई बेस्ड कंपनी से विवाद होने के बाद कथित तौर पर एक झूठा उत्पीड़न केस दर्ज कराया। मामले पर की जानकारी देते हुए जस्टिस एस. काटावल्ला ने खुलासा किया कि लोगों में अधिकारों के इस्तेमाल के मामले बढ़ रहे हैं। उन्होंने ऐसे मामलों की आलोचना की और कहा कि न्यायालय ऐसे मामलों में सख्ती के साथ पेश आएगा।

bhc20217-1-768x320

न्यायालय ने कहा, “इस चलन (अदालत का समय बर्बाद करने) को हमेशा के लिए रोकने हेतु यह निर्देश दिया जाता है कि सुराज इंडिया ट्रस्ट अब इस देश की किसी भी अदालत में जनहित में कोई याचिका दायर नहीं करेगा.” उसने कहा, “राजीव दहिया के जनहित में याचिका दायर करने पर रोक लगायी जाती है। सुराज इंडिया ट्रस्ट और राजीव दहिया द्वारा अदालत का समय बर्बाद करने के एवज में, हमें 25 लाख रुपये का उदाहरणीय जुर्माना लगाना उचित लगता है ताकि ऐसे लोग इस प्रकार की याचिका दायर करने से बचें।”

Image result for rape

न्यायालय ने एनजीओ से एक महीने के भीतर यह राशि जमा करवाने को कहा है। पीठ ने कहा कि इस न्यायालय में या फिर किसी भी उच्च न्यायालय में, जहां भी सुरक्षा इंडिया ट्रस्ट ने याचिकाएं दायर की हैं, और वह लंबित हैं, उनमें इस फैसले को रिकार्ड में पेश करना एनजीओ की जिम्मेदार होगी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *