Connect with us

कोरोना वायरस

कोविड-19 हॉस्पिटल पर गंभीर आरोप, होम आइसोलेशन मांगा तो दे दी मौत!

Published

on

कोविड-19 हॉस्पिटल पर गंभीर आरोप, होम आइसोलेशन मांगा तो दे दी मौत!

रोते हुए पुत्र ने कहा होम आइसोलेशन के लिए डीएम – सीएमओ की चौखट पर दौड़ते रहे। सीएमओ ने प्रभारी डॉक्टर को छुट्टी करने के लिए कहा। लेकिन प्रभारी डॉक्टर ने कहा चाहे जितना जोर लगा लो छुट्टी नहीं दूंगा। मैं अपनी नौकरी दांव पर नहीं लगाऊंगा। ज्यादा दबाव बनाने पर रात में ऑक्सीजन हटा दिया और दिन में मां तड़प-तड़प कर मर गई। मां की मौत के बाद भी आईसीयू के नाम पर जिंदा रखा। काफी कहने के बाद उन्होंने स्वीकार किया कि मां की मौत हो गई।

Bihar: निजी अस्पताल व होम आइसोलेशन में कोरोना मरीजों की मौत पर नहीं मिल रहा  मुआवजा, भटक रहे परिजन

हाइलाइट्स:

  • उन्नाव स्थित सरस्वती मेडिकल कॉलेज कोविड-19 हॉस्पिटल पर मरीज की ऑक्सीजन के अभाव में मौत के आरोप लगे हैं
  • आरोप है कि पिछले 5 दिनों से होम आइसोलेशन की मांग करते रहे, CMO की अनुमति के बाद भी छुट्टी नहीं दी गई
  • पंकज का आरोप है कि मौत के बाद भी अस्पताल के लोग सही बात बताने से बचते रहे

उत्तर प्रदेश के उन्नाव स्थित सरस्वती मेडिकल कॉलेज कोविड-19 हॉस्पिटल पर मरीज की ऑक्सीजन के अभाव में मौत के आरोप लगे हैं। बिलख-बिलख कर घटना की जानकारी देते हुए पुत्र ने बताया कि उनकी मां का छोटा सा एक्सीडेंट हुआ था, जिसमें उनकी मां के पैर में फ्रैक्चर था। अस्पताल दिखाने के लिए ले गए थे। वहां मां को कोरोना पॉजिटिव बताकर कोविड-19 हॉस्पिटल भेज दिया। वहीं उन्हें कोरोना रिपोर्ट भी नहीं दी गई। आरोप है कि पिछले 5 दिनों से होम आइसोलेशन की मांग करते रहे। CMO की अनुमति के बाद भी छुट्टी नहीं दी गई। प्रभारी डॉक्टर ने कहा मैं अपनी नौकरी दांव पर नहीं लगाऊंगा।

राजस्थान: कोरोना के चलते कम आवश्यक सरकारी, अर्धसरकारी और स्वायत्त संस्थान  31 मार्च तक बंद

माखी थाना क्षेत्र के बिलसी गांव निवासी पंकज त्रिपाठी ने बताया कि उनकी मां का 5 दिन पूर्व हुए एक्सीडेंट में पैर फैक्चर हो गया था। अस्पताल दिखाने गए तो वहां पर उन्हें कोरोना पॉजिटिव घोषित कर सरस्वती मेडिकल कॉलेज भेज दिया। पंकज ने कहा कि उनकी मां को कोविड-19 के कोई लक्षण नहीं थे। हॉस्पिटल में भी कोई उपचार नहीं हो रहा था।

सेंटर प्रभारी पर गंभीर आरोप
पंकज त्रिपाठी ने कहा कि डीएम-सीएमओ के पास होम आइसोलेशन के लिए लगातार भाग दौड़ करते रहे सीएमओ ने सेंटर प्रभारी डॉ विवेक गुप्ता से छुट्टी देने को कहा, लेकिन डॉ गुप्ता ने कहा चाहे जितना जोर लगा लो छुट्टी नहीं दूंगा। पंकज ने आरोप लगाते हुए कहा कि ज्यादा दबाव बनाया तो बीती शनिवार-रविवार की रात को ऑक्सीजन हटा दिया। जिससे आज दोपहर लगभग 1:00 बजे उनकी मौत हो गई।

कोविड-19 के इलाज में गायत्री मंत्र के प्रभाव के ट्रायल के लिए विज्ञान  मंत्रालय ने फंड दिया

‘अभी तक नहीं मिली मां की डेड बॉडी’
पंकज का आरोप है कि मौत के बाद भी वे लोग सही बात बताने से बचते रहे। पंकज ने रोते बिलखते हुए कहा कि डेढ़ घंटे बाद बताया कि तुम्हारी मां का हार्ट फेल हो रहा है। उन्होंने कहा कि मां की तो मौत हो चुकी है। काफी कहने के बाद उन्होंने सच्चाई स्वीकार की। पंकज त्रिपाठी ने बताया कि मां की डेड बॉडी नहीं मिली है। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आशुतोष कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि अभी इस विषय में अभी कुछ नहीं बता पाऊंगा। पूछने के बाद ही जानकारी दे सकता हूं।

source NBT

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *