fbpx
Connect with us

क्रिकेट

क्राइस्टचर्च की पिच को लेकर बीसीसीआई को असमंजस में, पहला टेस्ट हार सीरीज में पीछे है भारत

Published

on

BCCI ने अपने ट्विटर हैंडल पर हेग्ले ओवल मैदान की पिच को लेकर शंका जाहिर की है और सवाल पूछा है।

क्राइस्टचर्च : टीम इंडिया (Team India) की कीवी दौरे की शुरुआत शानदार हुई थी। उसने पांच टी-20 मैच की सीरीज के पांचों मैचों में जीतकर हासिल कर कीवी टीम पर अपना वर्चस्व साबित किया था। इसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम ने अचानक अपना लक्ष्य खो दिया और वनडे सीरीज की तीनों मैच हार गई। इसके बाद दो टेस्ट मैच की सीरीज की पहला टेस्ट हारकर टेस्ट सीरीज में भी हार की दहलीज पर खड़ी है। भारत को अगर सीरीज को बराबरी पर समाप्त करना है तो उसे क्राइस्टचर्च में 29 फरवरी से होने वाले अपने दूसरे मैच को हरहाल में जीतना ही होगा। इस बीच भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने अपने ट्विटर हैंडल पर हेग्ले ओवल मैदान की पिच को लेकर शंका जाहिर की है और सवाल पूछा है।

बीसीसीआई ने किया ट्वीट

29 फरवरी से भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले जाने वाले दूसरे टेस्ट से पहले बीसीसीआई ने गुरुवार को यह ट्वीट किया है। उसने मैदान की फोटो ट्वीट करते हुए लिखा है- पिच को पहचानिए?

बीसीसीआई ने यह ट्वीट इसलिए किया है, क्योंकि पूरे मैदान पर घास ही घास नजर आ रहा है। पिच की जगह पर भी उतनी ही घास है, जितनी बाकी मैदान पर। इस कारण मैदान और पिच में अंतर करना मुश्किल हो रहा है।

भारतीय टीम की भी नजर पिच पर है

भारत को पहले टेस्ट में कीवी टीम के हाथों 10 विकेट की करारी मात मिली थी। अगर उसे सीरीज में बराबरी करनी है तो हर हाल में दूसरे टेस्ट में जीत हासिल करनी होगी। इस कारण टीम मैनेजमेंट की करीबी नजर क्राइस्टचर्च की पिच पर बनी हुई है। लेकिन यह देखन आश्चर्यजनक है कि टीम मैनेजमेंट के साथ-साथ बीसीसीआई की नजर भी इस पर बनी हुई है।

तेज विकेट की उम्मीद

क्राइस्टचर्च की विकेट भी वेलिंगटन की तरह तेज और उछाल से भरी होने की उम्मीद है। तेज गेंदबाजों को मदद मिले इस कारण इस पिच पर काफी घास छोड़े जाने की संभावना है। वेलिंगटन की तेज और उछाल भरी पिच पर मयंक अग्रवाल और कुछ हद तक अजिंक्य रहाणे को छोड़कर सभी भारतीय बल्लेबाज वेलिंगटन में संघर्ष करते नजर आए थे। लेकिन ये दोनों बल्लेबाज भी अपनी पारी को बड़ी पारी में तब्दील नहीं कर पाए थे।

Show More

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *