Connect with us

सेहत

गाय का दूध पियें या भैंस का? जानिए कौन सा है ज्यादा हेल्दी और किस उम्र में कितना पीना चाहिए

Published

on

चाहे बच्चा हो या बड़ा हो दूध पीना सभी के लिए फायदेमंद होता है। दूध में भारी मात्रा में प्रोटीन और कई अन्य ऐसे पोषक तत्व होते हैं जिनकी हमारे शरीर को बहुत जरूरत होती है। हम लोग बचपन से ही सुनते आए हैं कि दूध सेहत के लिए अच्छा होता है। दूध ही नहीं, इससे बने अन्य आहार जैसे- दही, छाछ, घी, मक्खन और पनीर के भी अपने फायदे हैं। लेकिन यह दुविधा भी हमेशा रहती है कि इनका उपयोग कब, कितना और किस समय किया जाए। दूध को लेकर समय समय पर कई तरह की अफवाहें उड़ती रहती है। आज हम आपको दूध से जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में बता रहे हैं।

हम गाय या भैंस के दूध से उसके रंग और मोटाई को देखकर अंतर कर सकते हैं। रचना और समृद्धि के संदर्भ में एक दूसरे से अलग होने के दौरान, गाय और भैंस दोनों के दूध में गुण होते हैं जो उन्हें उनके अद्वितीय पोषण मूल्य और स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। उन्हें अपने दैनिक आहार में शामिल करना आपको फिट और मजबूत रहने में मदद कर सकता है।

आइये जानते हैं कि किसके लिए कौनसा दूध सही रहता है, इस पर नज़र डालते हैं –

1. वसा की मात्रा

वसा सामग्री इन दो दूधों को तुरंत एक दूसरे से अलग बनाती है। दोनों में से, भैंस के दूध में वसा की मात्रा अधिक होती है, जो लंबे समय तक आपके पेट को भरा रखती है। दूसरी ओर, गाय की दूध कम वसा वाली सामग्री के कारण पचाने में आसान है। जब भैंस के दूध में वसा प्रतिशत की बात आती है, तो औसतन यह गाय के दूध की तुलना में दो गुना अधिक है। तो, अगर गाय के दूध में वसा की औसत मात्रा 3-4% है तो भैंस के दूध में लगभग 7-8% है।

2. प्रोटीन सामग्री

गाय के दूध की तुलना में भैंस के दूध में अधिक प्रोटीन होता है, जिसे पचाने में अधिक मुश्किल हो सकती है। यह एक प्रोटीन सामग्री के साथ आता है जो 4.2% -4.5% की सीमा में है और गाय के दूध की तुलना में 11% अधिक है। इसलिए नवजात शिशुओं के लिए गाय का दूध ही सही है, वो भैंस का दूध नहीं पचा पाएंगे. लेकिन वहीँ बढ़ते बच्चों को चाहिए अधिक प्रोटीन जो उनकी ग्रोथ में ज़रूरी है तो उन्हें भैंस का दूध सही रहता है.

3. कोलेस्ट्रॉल की मात्रा

Image result for कोलेस्ट्रॉल

कोलेस्ट्रॉल के स्तर में दोनों दूध में भिन्नता होती है, भैंस के दूध में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। भैंस के दूध में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा 0.65 mg / g होती है, जबकि गाय के दूध में 3.14 mg / g कोलेस्ट्रॉल होता है। इसलिए दूध का चुनाव करते हुए यह बात भी ध्यान में रखनी चाहिए.

4. पानी की मात्रा

गाय का दूध भैंस के दूध की तुलना में उच्च पानी की मात्रा की रिपोर्ट करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें लगभग 90% दूध में पानी की मात्रा होती है। यह उच्च जल प्रतिशत है जो गाय के दूध को इसकी हाइड्रेटिंग गुणवत्ता देता है। इसीलिए गाय के दूध को भैंस के दूध की तुलना में आसानी से पचाया भी जा सकता है और पेट भी ज्यादा भरा भरा महसूस होने की बजाय हल्का रहता है.

5. कैलोरी की मात्रा

Image result for कैलोरी की मात्रा milk

चूंकि भैंस के दूध में अधिक प्रोटीन और वसा होता है, इसलिए इसमें अधिक कैलोरी होती है। हर 100 मिलीलीटर भैंस के दूध के लिए, आप लगभग 100Kcals का उपभोग करते हैं। दूसरी ओर, गाय के दूध में लगभग 70 Kcals होते हैं। इसलिए गाय का दूध पीने से उतना वजन नहीं बढेगा जितना कि भैंस का दूध पीने से बढेगा.

तो निचोड़ ये निकलता है कि यदि आप अपना वजन कम करने और अपनी चयापचय प्रक्रियाओं में सुधार करने  की सोच रहे हैं, तो गाय का दूध सबसे उपयुक्त विकल्प होगा क्योंकि इसमें वसा, प्रोटीन और कैलोरी की मात्रा कम होती है। दूसरी ओर, यदि आप वजन बढ़ाना चाहते हैं और कमजोर हड्डियों को मजबूत करना चाहते हैं, तो भैंस का दूध वह है जो आपको रोजाना चाहिए।

और जानिए किस उम्र में कितना दूध पीना जरूरी है 

दूध एक कंप्लीट फूड है। दूध और अंडा ही ऐसे फूड आइटम हैं, जो संपूर्ण आहार हैं। दूध में सारे जरूरी प्रोटीन और अमीनो एसिड्स पाए जाते हैं। दूध में बस आयरन और विटमिन सी कम पाया जाता है।

1 से 2 साल के बच्चों को ब्रेन के बेहतर विकास के लिए ज्‍यादा फैट वाली डाइट की जरूरत होती है, इसलिए फुल क्रीम मिल्क देना चाहिए। इनके लिए दिन में 3-4 कप दूध (करीब 800-900 मिली) जरूरी है। 2 से 3 साल के बच्चों को रोजाना दो कप दूध या दूध से बनी चीजें देनी चाहिए। 4-8 साल की उम्र के बच्चों को ढाई कप दूध और दूध से बनी चीजों जैसे- पनीर, दही आदि रोजाना देना जरूरी है। 9 साल से ज्‍यादा के बच्चों को रोजाना करीब तीन कप दूध या दूध से बने हुए उत्पाद जैसे- दही, पनीर आदि देना चाहिए। शारीरिक रूप से ऐक्टिव टीनएजर्स को रोजाना करीब 3000 कैलरी की जरूरत होती है। इन्हें 4 कप तक दूध और दूध से बनी चीजें दे सकते हैं।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.