fbpx
Connect with us

अच्छी खबर

गैस सिलिंडर फटने पर कंपनी देती है 50 लाख का मुआवजा, जानिए कैसे मिलता है Claim

Published

on

दिल्ली में गैस सिलिंडर (LPG) लीक होने और फटने के मामले में महिला के मौत के एक मामले में कंज्यूमर कोर्ट ने गैस कंपनी को 10 लाख 46 हजार रुपये मुआवजा देने का आदेश दिया है। इस हादसे में जख्मी हुई दूसरी महिला को 1 लाख 75 हजार रुपये का मुआवजा देने का निर्देश भी दिया है।

क्या था मामला : मामला कुछ समय पहले का है। दिल्ली के टाउन हॉल में रहने वाली एक फैमली के घर में गैस का सिलेंडर लीक हुआ और सास और बहू दोनों बुरी तरह झुलस गए। इलाज के दौरान सास तो बच गई लेकिन बहू ने दम तोड़ दिया।  3 अप्रैल 2003 को महिला और उनकी बहू किचन में खाना बना रही थीं। इसी दौरान गैस सिलिंडर खाली हो गया। जब दूसरा भरा सिलिंडर लगाने के लिए लाया गया तो कैप खोलते हुए उसमें से गैस लीक हुई और लिक्विड गैस का फव्वारा फूटा, फव्वारा फूटते ही दोनों महिलाएं गैस की चपेट में आ गईं।

बहू के 90 फीसदी जलने के कारण उसकी मृत्यु हो गई, जबकि सास बुरी तरह झुलस गयी। फायर सर्विस के लोग मौके पर पहुंचे तो छानबीन में पाया कि गैस सिलिंडर का वॉल्व ठीक नहीं था और लीक कर रहा था। डिफेक्टिव सिलिंडर के कारण ये लीकेज हुआ था। मृतका के पति और सास की ओर से मुआवजे के लिए कंज्यूमर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया। अब कंज्यूमर कोर्ट ने आदेश दिया है कि मृतक महिला के पति को बतौर मुआवजा 10 लाख 46 हजार रुपये का भुगतान किया जाए और सास को एक लाख 75 हजार रुपये दिए जाएं।

Image result for गैस सिलिंडर फटने पर कंपनी देती है 50 लाख का मुआवजा

जरूरी ये है कि हमें पता हो कि कि यदि LPG गैस सिलिंडर फट जाता है या गैस लीक होने की वजह से हादसा हो जाता है तो आपके, एक ग्राहक होने के नाते, क्या अधिकार हैं। जैसे ही कोई व्यक्ति एलपीजी कनेक्शन लेता है तो उसे मिले सिलेंडर से यदि उसके घर में कोई दुर्घटना होती है तो वह व्यक्ति 50 लाख रुपये तक के बीमा का हकदार हो जाता है। एक दुर्घटना पर अधिकतम 50 लाख रुपये तक का मुआवजा मिल सकता है।

एफआईआर की कॉपी, घायलों के इलाज के पर्चे व मेडिकल बिल तथा मौत होने पर पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, मृत्यु प्रमाणपत्र संभाल कर रखें। दुर्घटना होने पर उसकी ओर से वितरक के जरिए मुआवजे का दावा किया जाता है। दावे की राशि बीमा कंपनी संबंधित वितरक के पास जमा करती है और यहां से ये राशि ग्राहक के पास पहुंचती है।

हर LPG सिलेंडर पर होता है 50 लाख का बीमा, जानिए-कैसे मिलता है क्लेम!

Related image

>> मायएलपीजी.इन (http://mylpg.in) के मुताबिक जैसे ही कोई व्यक्ति एलपीजी कनेक्शन लेता है तो उसे मिले सिलेंडर से यदि उसके घर में कोई दुर्घटना होती है तो वह व्यक्ति 50 लाख रुपये तक के बीमा का हकदार हो जाता है.

>> एक दुर्घटना पर अधिकतम 50 लाख रुपये तक का मुआवजा मिल सकता है. दुर्घटना से पीड़ित प्रत्येक व्यक्ति को अधिकतम 10 लाख रुपये की क्षतिपूर्ति दी जा सकती है.

>> एलपीजी सिलेंडर के बीमा कवर पाने के लिए ग्राहक को दुर्घटना होने की तुरंत सूचना नजदीकी पुलिस स्टेशन और अपने एलपीजी वितरक को देनी होती है.

>> पीएसयू ऑयल विपणन कंपनियों जैसे इंडियन ऑयल, एचपीसी तथा बीपीसी के वितरकों को व्यक्तियों और संपत्तियों के लिए तीसरी पार्टी बीमा कवर सहित दुर्घटनाओं के लिए बीमा पॉलिसी लेनी होती है.

>> ये किसी व्यक्तिगत ग्राहक के नाम से नहीं होतीं बल्कि हर ग्राहक इस पॉलिसी में कवर होता है. इसके लिए उसे कोई प्रीमियम भी नहीं देना होता.

>> एफआईआर की कॉपी, घायलों के इलाज के पर्चे व मेडिकल बिल तथा मौत होने पर पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, मृत्यु प्रमाणपत्र संभाल कर रखें.

>> दुर्घटना होने पर उसकी ओर से वितरक के जरिए मुआवजे का दावा किया जाता है. दावे की राशि बीमा कंपनी संबंधित वितरक के पास जमा करती है और यहां से ये राशि ग्राहक के पास पहुंचती है.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *