Connect with us

विशेष

चार महीने तक मैंने अंड’रवि’यर नहीं पहना था क्योंकि हर 10 मिनट में उसे उतरवाया जाता था

Published

on

आईए सआईएस के चंगुल से छूटकर आई फरीदा खलफ की जिंदगी में अब खुशियां लौट रही हैं। फरीदा को जीवन साथी मिल गया है। लेकिन फरीदा ने आईए सआईएस के दरिंद गी की पूरी कहानी बयां की है। फरीदा ने बताया कि जब वो 16 साल की थी तो आईए सआईएस के लड़ाकों ने उसे कि’डनैप कर लिया था। वहां उसे से’क्‍स स्‍ले व बनाकर रखा जाता था। आ’तंकी रोज रे’प करते थे।

फरीदा ने बताया कि चार माह तक इस कदर टॉ’र्चर किया गया था कि कुछ समय के लिए उसकी आंख की रोशनी तक चली गई थी। इस हालात से तं ग आकर उसने चार बार खु दकुशी की कोशिश भी की थी लेकिन वो बच गई।

150 लड़कियों के साथ किया गया था कि’डनैप : फरीदा ने बताया कि अगस्‍त 2014 में आ ईएसआईएस आतं’कियों ने उसे, उसकी मां और दो भाईयों को 150 लड़कियों के साथ कि’डनैप कर लिया था। आ’तंकी उसे मोसूल ले गए थे और वहां उसके पिता को गो’ली मा र दी थी। इसके बाद उसे अपनी फैमिली से अलग कर बाकी लड़कियों के साथ से’क्‍स स्ले व  बना सीरिया के शहर रक्का भेज दिया गया, जो आईए स का गढ़ था।

आ’तंकियों ने पी ट-पी टकर सिर की हड्डी तो ड़ डाली : फरीदा ने बताया था कि आ’तंकियों ने उनके साथ वो सब किया जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती और जो कोई जानवर के साथ भी नहीं करेगा। फरीदा को आतं’कियों ने इतनी बुरी तरह पी टा था कि उनके सिर की हड्डियां तीन जगह से टू ट गई थीं। हालात ये हो गई कुछ समय के लिए उनकी आंखों की रोशनी तक चली गई।

चार महीनों तक रोज होता था गैंगरे’प : फरीदा ने बताया कि चार महीने की कै द में वो न जाने कितनी बार गैंगरे’प का शि कार हुईं और तकरीबन रोज उसे 40-50 बार रे’प का शि कार होना पड़ा। उन्हें चार महीने तक बिना अंडरविय र के रखा गया। अपने हाला त से परेशान होकर और इनके चंगुल से आजाद होने के लिए उसने चार बार सु साइड की भी कोशिश की, लेकिन हर बार आतं’कियों ने उसे बचा लिया। इसके बाद फरीदा ने आठ लड़कियों के साथ वहां से हिम्मत दिखाकर भागने की कोशिश की और कामयाब हो गईं। अब वो जर्मनी के एक रिफ्यूजी कैंप में रह रही हैं।

कैंप में हुआ फरीदा को प्‍यार अब कर रही हैं शादी की तैयारी : अंग्रेजी वेबसाइट द सन के मुताबिक फरीदा अब 21 साल की हो गई हैं। अब वो दोबारा लोगों पर भरोसा करना सीख रही हैं। उन्‍हें रिफ्यूजी कैंप में ही अपना प्‍यार ढूंढ लिया है। उसका नाम नाजहन इलियास है। फरीदा का कहना है कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि मेरी जिंदगी में अब कभी खुशियां आएंगी लेकिन इलियास के आने के बाद से मैं खुश हूं। मैं अपनी शादी की तैयारी कर रही हूं।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *