Connect with us

दुनिया

चीन में उइगर मुसलमानों पर अत्याचार की हद पार, रोजे रखने की मनाही, बच्चों के नाम रखने की भी आजादी नहीं

Published

on

जर्मनी में निर्वासन में रह रहे विश्व उइगर कांग्रेस के अध्यक्ष डॉल्कन ईसा ने दावा किया है कि चीन की मुस्लिम आबादी को रमजान के पवित्र महीने में रोजा रखने की भी अनुमति नहीं है। वहां के उइगर मुसलमानों को ‘सामुदायिक रसोई के जरिए भोजन करने के लिए बाध्य किया जाता है’। यहां तक कि चीन सरकार उन्हें अपने बच्चों के नाम भी धर्म के आधार पर नहीं रखने दे रही है।

तिरुवनंतपुरम स्थित सेंटर फॉर पॉलिसी एंड डेवलपमेंट स्टडीज द्वारा “उइगर मुस्लिम और चीन द्वारा उनके मानवाधिकारों के उल्लंघन” विषय पर आयोजित एक वेबिनार में डॉल्कन ईसा ने यह बात कही। ईसा ने कहा, “चीनी कम्युनिस्ट पार्टी उइगर मुसलमानों के सभी मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रही है। यहां तक कि पश्चिमी देशों में निर्वासन में रह रहे उइगर कार्यकर्ताओं को भी यह पार्टी परेशान कर रही है। चीन सरकार द्वारा की जा रही इन बर्बरताओं के खिलाफ बोलने वालों का इंटरपोल के जरिए पीछा किया जा रहा है। यदि दुनिया चीनी वस्तुओं और चीनी व्यवसायों को नहीं रोकती है तो लोकतंत्र और मानव अधिकार अतीत की बातें बन जाएंगे।”

वॉशिंगटन में रहने वाली और ‘कैंपेन 4 उइगर्स’ का नेतृत्व करने वाली संस्थापक चेयरपर्सन रुशन अब्बास ने कहा कि उइगर और तिब्बती, चीन सरकार की गुलामी और नरसंहार का शिकार हो रहे हैं। अपनी बहन गुलशन अब्बास के अपहरण का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, “अमेरिका ने पहले ही चीन के खिलाफ आर्थिक नाकेबंदी शुरू कर दी है और सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा किए जा रहे उइगर मुस्लिमों के नरसंहार के खिलाफ मुस्लिम दुनिया को सक्रिय होने का आह्वान किया है।”

सेंटर फॉर चाइना एनालिसिस एंड स्ट्रैटेजी के अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड के सदस्य जयदेव रानाडे ने कहा कि भारत ने चीन के खिलाफ अपना पक्ष रखा है। उसने न केवल वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन को रोका है, बल्कि देश में भी चीनी उत्पादों पर प्रतिबंध लगाया है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने चीन को आर्थिक नुकसान पहुंचाया है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.