fbpx
Connect with us

लाइफ स्टाइल

जज बनने के बाद लड़की तोड़ लिया लड़के के साथ रिश्ता, फिर लड़के ने किया कुछ ऐसा जिसे जानकर आपको होगा गर्व

Published

on

दोस्तों, प्यार एक बहुत ही खूबसूरत एहसास होता है ये तो हम सभी जानते हैं मगर ये एहसास तभी खूबसूरत होता है जब प्यार सच्चा हो और उसे जिंदगी भर तक निभाने की चाह हो, अगर प्यार सच्चा नहीं होता है तो ये एहसास खूबसूरत नहीं होता है वहीं झूठा प्यार लोगों को कुछ भी करने के लिए मजबूर कर देता है।

दोस्तों, आजकल दुनिया में सब एक दूसरे से आगे निकलने की रेस में लगे हुए हैं और जो आगे निकल जाता है वो पीछे रह गए अपने साथियों को भूल जाता है और अपने टक्कर के नए साथियों को खोजने लगता है। पर दोस्तों, किसी को भी कम नहीं समझना चाहिए, कब किसका सिक्का चमक जाए इसका अनुमान लगाना बेहद मुश्किल है।

आज हम आप सबको ऐसा ही कुछ बताने जा रहे हैं। अभी हाल ही में 13 अक्टूबर को लोक सेवा आयोग ने पीसीएस-j 2016 का परिणाम जारी किया है और उसमें गाजीपुर के औड़िहार के रहने वाले अमित वर्मा ने 152 रैंक प्राप्त किया है और उनकी इस सफलता के पीछे की जो कहानी है वो दुनिया के लिए मिसाल बन गई है। एओ इंटरव्यू के दौरान जब अमित से उनकी कामयाबी का राज पूछा गया तो अमित ने बड़े ही अनोखे अंदाज में इसकी शुरुआत करते हुए कहा कि,

‘बीच मझधार में छोड़ा था मेरा साथ उस बेवफा ने, वक्त का करिश्मा कुछ ऐसा हुआ कि वह डूब गए और हम पार हो गए।’

अमित ने बताया कि उनके पिताजी 2011 में कैंसर की वजह से गुज़र गए और उनकी माताजी एक साधारण सी ग्रहणी हैं। ऐसे में घर का खर्चा चला पाना बहुत मुश्किल होता था। छोटे मोटे बिज़नेस से ही घर का खर्चा चलता था। अमित ने कहा कि मेरे पापा का शुरू से ही सपना था कि उनका बेटा बड़ा होकर जज बने और आज मैं जज बन भी गया हूँ, लेकिन अफसोस कि पापा मेरे पास नहीं हैं। अमित ने बताया कि 2012 में उन्होंने वेस्ट बंगाल में रहते हुए पीसीएस-j क्लियर किया था और उनकी रैंक 16 थी और केवल 14 रैंक वालो का ही सलेक्शन हुआ था।

अमित ने बताया कि फिर उनकी गर्लफ्रेण्ड ने उनसे ब्रेकअप कर लिया था और जज बन गई थी। उन दोनों की फेसबुक के जरिए दोस्ती हुई थी और फिर धीरे धीरे दोनों में प्यार हुआ था मगर उनकी गर्लफ्रेण्ड हमेशा उन्हें बेरोजगारी के ताने दिया करती थी जिसकी वजह से अमित को प्राइवेट जॉब भी करनी पड़ी। लेकिन अमित की आंखों के सामने हरदम उनके पापा के सपने घूमते रहते थे जिसकी वजह से 2015 में उन्होंने LLB में एडमिशन ले लिया और इसीलिए उन्हें जॉब छोड़नी पड़ी और बेरोजगारी की वजह से उनके रिश्ते में दरार भी आ गयी। ब्रेकअप के बाद अमित डिप्रेशन में भी चले गए थे मगर उनके पापा के सपने उनके साये की तरह हमेशा उनके साथ रहे जिसकी वजह से वो डिप्रेशन से बाहर आए और आज उसका परिणाम सभी के सामने है।

thumbnail image is used for illustration purpose only, the girl displayed has no role with this article.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *