fbpx
Connect with us

विशेष

टैक्सी वाले ने अपनी टैक्सी बेचकर कराया लड़की का इलाज-बदले में उसे क्या मिला सभी को पढ़ना चाहिए

Published

on

सड़क हादसे में घायल एक लड़की की जान बचाने के लिए सहारनपुर के एक टैक्सी वाले ने अपनी टैक्सी बेचकर उसका इलाज करवाया। बाद में दाने-दाने को मोहताज उस गरीब टैक्सी वाले को लड़की ने जान बचाने का इनाम दिया। लड़की ने उसे नई टैक्सी खरीदकर दी और उसके घर रहने भी लगी।

इस नेकदिल टैक्सी चालक का नाम राजवीर है। उसने नई टेक्सी खरीदी थी। एक दिन सड़क पर गुजरते हुए उसने देखा कि एक खूबसूरत लड़की सड़क पर खून से लथपथ पड़ी है। राजवीर ने लड़की को टैक्सी में बिठाया और अस्पताल लेकर चला गया।अस्पताल पहुंचते ही राजीव को डॉक्टर ने ऑपरेशन के लिए दो लाख लाने को कहा। बिना सोचे-समझे उसने 2.5 लाख में टैक्सी बेचकर उसका ऑपरेशन करवाया। ठीक होने के बाद वह लड़की अपने घर चली गयी।

एक दिन लड़की उसके घर पर आई। राजीव ने पहचान लिया कि यह मेरी बहना आसीमा है। आसिमा ने उसे अपनी डिग्री के कन्वोकेशन में आने को कहा। राजवीर की आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी। फिर भी उसने सोचा कि बहन ने बुलाया है तो जाना तो पड़ेगा। यूनिवर्सिटी के उस हॉल में राजवीर भी अपनी बूढ़ी मां के साथ आया और सबसे पीछे बैठ गया।

राष्ट्रपति ने पहला नाम ही आशिमा का पुकारा। आशिमा को गोल्ड मेडल मिला था। लेकिन मेडल लेने के बजाय आशिमा दौड़कर राजवीर के पास गई और बोली मेडल का असली हकदार मेरा भाई है। कहानी सुनकर लोगों की आंखों से आंसू आ गए। इसके बाद उसने भाई को एक टैक्सी दी और उन्हीं के साथ रहने लगी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *