Connect with us

विशेष

दहेज के 21 लाख रुपए लेकर आया लड़की का चाचा..दूल्हा बोला- मैं सिर्फ 11 ही रुपए लूंगा

Published

on

जिले के युवाओं में अब बदलाव आ रहा है। अब शादियों में युवा टीका नामक प्रथा काे नकार रहे हैं। युवाओं का मानना है कि इस प्रथा के कारण कई बार बेटी के घर वाले अपना सब कुछ दांव पर लगा देते हैं। कई बार तो वे जमीन-जेवर तक बेच देते हैं, ताकि वर पक्ष के मान व सम्मान में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं आए। आज के दौर में टीका लौटाने वालों को सम्मान की नजरों से देखा जा रहा है।

Rani News - rajasthan news social change now the youth who do not take the criticism 1 rupee and the coconut in the shagun
सगाई में भेंट किया 21 लाख का टीका, युवक ने हाथ जोड़कर लौटाए, कहा- ऐसा मान स्वीकार नहीं

रानी| सगाई-ब्याह में मान-सम्मान का प्रतीक मानी जाने वाली टीका प्रथा को लेकर मारवाड़ में बदलाव की लहर जारी है। टीका लेकर नहीं लौटाकर सम्मान हासिल करने वालों में पाली के रानी में खारड़ा निवासी प्रहलाद सिंह पुत्र भगतसिंह राठौड़ का भी नाम जुड़ गया है। सिविल इंजीनियरिंग के छात्र प्रहलाद की बिलाड़ा के रावणियाना गांव निवासी सेना के रिटायर्ड कैप्टन राजेंद्रसिंह शेखावत की बेटी कृष्णा कुमारी से सगाई थी। रस्मों के दौरान लड़की वालों ने थाल में 21 लाख रुपए सजाकर टीके का नेग भेंट किया, लेकिन प्रहलाद ने हाथ जोड़कर यह कहते हुए थाल लौटा दिया कि अपनों पर बोझ डाल मान बढ़ाना स्वीकार नहीं। फिर बड़े-बुजुर्गों के आग्रह पर उन्होंने नेग के 11 रुपए व नारियल स्वीकार किए।

Rani News - rajasthan news social change now the youth who do not take the criticism 1 rupee and the coconut in the shagun
भादरलाऊ गांव में दस्तूरी में मिले 11 लाख लौटाए, समाज को दहेज नहीं लेने का दिया संदेश

बूसी| भादरलाऊ गांव में दूल्हे ने दस्तूरी के 11 लाख रुपए लौटाकर समाज के युवाओं को संदेश दिया। जानकारी के अनुसार गांव के लक्ष्मणसिंह कुंपावत की पुत्री मूमलकंवर की शादी शनिवार को दूल्हा शारीरिक शिक्षक बलरामसिंह पुत्र नाथूसिंह राजावत निवासी बम्बोरा जिला उदयपुर के साथ साथ हुई। शादी में दुल्हन के परिवार वालों की ओर से 11 लाख रुपए तिलक दस्तूर के रूप में दिए गए। दूल्हा शारीरिक शिक्षक बलरामसिंह राजावत व उनके परिवार ने दहेज प्रथा की एक परम्परा को खत्म करने के लिए अनूठी पहल देते हुए दहेज प्रथा में दिए गए 11 लाख रुपये वापस लौटाकर श्रीफल और एक रुपया दस्तूरी के रूप में स्वीकार कर समाज को दहेज नहीं लेने का संदेश दिया।

Rani News - rajasthan news social change now the youth who do not take the criticism 1 rupee and the coconut in the shagun
नया गांव के गौरव ने नेक में एक लाख के बदले शगुन के तौर पर एक रुपया और नारियल लिया

पाली| नया गांव के रहने वाले कस्टम इंस्पेक्टर गौरव जोशी ने अपने ही नहीं, बल्कि हर समाज के सामने दहेज नहीं लेकर मिसाल पेश की है। उन्होंने अपनी शादी में दहेज नहीं लेने के साथ नेक की राशि तक लौटा दी। जोशी की शादी शनिवार को जालोर के उद्योगपति मुरलीप्रसाद शर्मा की पुत्री दमयंती शर्मा (दक्षा) के साथ हुई। शादी में उनके ससुर शर्मा ने नेक में 1 लाख रुपए दिए, लेकिन गौरव ने नेक लेने से मना करते हुए शगुन का 1 रुपया और नारियल ही स्वीकार किया। ओमप्रकाश जोशी के पुत्र गौरव के इस कदम की दिलीप पंचारिया, रामचंद्र, कैलाश शर्मा, प्रकाशचंद्र, अरुण शर्मा व आदित्य जोशी सहित कई समाज बंधुओं ने सराहना करते हुए इसे अच्छी पहल बताया।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *