Connect with us

कोरोना वायरस

दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू , CM केजरीवाल ने किया ऐलान, बोले- कोरोना की चेन तोड़ना जरूरी

Published

on

LIVE: दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू , CM केजरीवाल ने किया ऐलान, बोले- कोरोना की चेन तोड़ना जरूरी

कोरोना के बढ़ते संकट के बीच दिल्ली में वीकेंड लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है. ये लॉकडाउन शुक्रवार रात 10 बजे शुरू होगा और सोमवार सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार दोपहर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इन नई पाबंदियों का ऐलान किया. ये फैसला तब हुआ है जब दिल्ली में पिछले दिन ही 17 हज़ार से अधिक नए केस दर्ज किए गए थे जो अबतक का एक रिकॉर्ड है.

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के कारण हाहाकार मचा है. दिल्ली के अस्पतालों में बेड्स की कमी है, ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिल रहे हैं वहीं श्मशान घाट के बाहर अंतिम संस्कार के लिए भी कतार है. इस महासंकट के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपराज्यपाल अनिल बैजल के बीच एक अहम बैठक हुई.

गौरतलब है कि दिल्ली में इस वक्त पहले से ही नाइट कर्फ्यू लागू किया गया है, वहीं जहां केस अधिक हैं वहां पर कंटेनमेंट ज़ोन पर फोकस किया जा रहा है. इन पाबंदियों के बावजूद भी कोरोना के केस कम नहीं हो रहे हैं.

दिल्ली में कोरोना का हाल
•    24 घंटे में आए केस: 17,282
•    24 घंटे में हुई मौतें: 104
•    कुल केस: 7,67,438
•    एक्टिव केस: 50,736
•    अबतक हुई मौतें: 11,540

क्या लगेगा लॉकडाउन, क्या कहते हैं बयान?
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लॉकडाउन का संकट है, लेकिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और खुद स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन लॉकडाउन की संभावनाओं को नकार चुके हैं. अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली में लॉकडाउन नहीं लगेगा, क्योंकि इससे बहुत सी मुश्किलें होती हैं. हालांकि, केजरीवाल ने ये भी चेताया था कि अगर अस्पतालों में बेड्स की कमी होती है, या हालात बेकाबू हो सकते हैं तो कहीं लॉकडाउन ना लगाना पड़ जाए.

दिल्ली सीएम के अलावा स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी कहा था कि लॉकडाउन को पहले भी दिल्ली में लगाया जा चुका है, लेकिन इस बार लॉकडाउन नहीं लगेगा. सरकार की ओर से जो पाबंदियां लगाई जा रही हैं, लोगों को उनका पालन करना चाहिए. अगर लोग मास्क लगाएंगे और नियमों का पालन करेंगे, तो बच सकते हैं.

दिल्ली के एक श्मशान घाट की तस्वीर (फोटो: PTI)

बदइंतजामी से दिल्ली में हर दिन के साथ बिगड़ रहे हैं हालात
दरअसल, दिल्ली में सबसे पहला पीक पिछले साल नवंबर में आया था. लेकिन इस बार हर रिकॉर्ड टूट रहा है. पिछले कुछ दिनों से लगातार 10 हज़ार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं. कोरोना की रफ्तार में दिल्ली ने अब मुंबई को भी पीछे छोड़ दिया है. दिल्ली में हाल ये है कि एक महीने में संक्रमण के मामले 32 गुना तक बढ़ गए, हर 100 टेस्ट में 13 लोग कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं.

दिल्ली के बिगड़ते हालात के पीछे यहां की बदइंतजामी भी है. कई अस्पतालों में बेड्स की कमी है, ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं हैं. वहीं, अगर कोई व्यक्ति टेस्ट कराने जा रहा है तो उसे घंटों लाइन में लगना पड़ता है. हालात ये हैं कि कई अस्पतालों में एक ही हॉल में सैकड़ों लोग इंतजार में खड़े हैं, ऐसे में कोई भी यहां पॉजिटिव या निगेटिव निकले कोई फिक्र नहीं दिख रही है

source aajtak

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Exit mobile version