Connect with us

विशेष

दो महीने तक बिस्तर पर पड़े रहने का मिलेगा 12 लाख

Published

on

अंतरिक्ष यात्री स्पेस में कैसा महसूस करते हैं और आर्टिफिशियल ग्रेविटी इंसान के शरीर पर क्या असर डालती है, नासा इसकी रिसर्च कर रहा है। वहीं इस रिसर्च में शामिल होने के लिए नासा वॉलंटियर्स को 12 लाख रुपए का ऑफर दे रहा है। इसके लिए उन्हें दो महीने तक खास तरह के बिस्तर पर लेटकर समय बिताना होगा। प्रतिभागी परेशान न हों इसके लिए फिल्में और टीवी देखने की व्यवस्था भी की गई है। शामिल लोगों को दिनचर्या का हर काम लेटकर करना होगा। Image result for दो महीने तक बिस्तर पर पड़े रहने का मिलेगा 12 लाख वहीं रिसर्च से नासा और यूरोपियन स्पेस एजेंसी के एक्सपर्ट संयुक्त रूप से करेंगे। रिसर्च के माध्यम से यह जानने की कोशिश करेंगे कि स्पेस में इंसान की लंबाई क्यों बढ़ जाती और मसल्स में होने वाली क्षति का कारण क्या है। दो माह तक बिस्तर पर लेटे रहने के लिए नासा देगा 13 लाख रुपये दरअसल, यूरोपियन स्पेस एजेंसी का दावा है कि स्पेस में भारहीनता, कॉस्मिक रेडिएशन और आइसोलेशन  के कारण शरीर में होने वाले डैमेज को समझने में मदद मिलेगी।रिसर्च के दौरान 2 दर्जन वॉलंटियर को 60 दिन तक लगातार बेड पर लेटे रहना होगा साथ ही सभी प्रतिभागियों को जर्मन भाषा में बात करना जरूरी होगा। Image result for दो महीने तक बिस्तर पर पड़े रहने का मिलेगा 12 लाख हिस्सा लेने वालों की उम्र 24 से 55 साल के बीच होने के साथ उन्हें स्वस्थ भी होना चाहिए। उनके पैर सिर के मुकाबले ऊपर की ओर रखे जाएंगे ताकि शरीर के एक हिस्से में ब्लड इकट्ठा न हो सके। बता दें, रिसर्च के मुख्य शोधकर्ता डॉ. एडविन मुल्डर के मुताबिक, स्पेस में अंतरिक्ष यात्रियों की सेहत को बरकरार रखने के लिए आर्टिफिशियल ग्रेविटी का इस्तेमाल करना बेहतर विकल्प है। इसे समझने के लिए 50 फीसदी प्रतिभागियों को आर्टिफिशियल ग्रेविटी चेंबर में रखा जाएगा। वे एक केंद्र के चारों ओर घूमेंगे और एक मिनट में 30 चक्कर लगाएंगे ताकि इस दौरान उनका रक्त शरीर के जरूरत वाले हिस्से में भी पहुंच सके। यही नहीं अन्य 50 फीसदी प्रतिभागियों को बिना घूमने वाले हिस्से में रखा जाएगा। इसके आधार पर दोनों समूहों के अनुभव और परिवर्तन का विश्लेषण किया जाएगा। यह स्टडी 3 माह तक चलेगी। प्रतिभागियों को हर चरण में हिस्सा लेना होगा। शोध खत्म होने पर उन्हें दो हफ्तों के लिए पुर्नवास केंद्र में जांच के लिए भेजा जाएगा।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *