Connect with us

दुनिया

प्रेसिडेंशियल डिबेट में डोनाल्ड ट्रंप का भारत-रूस पर निशाना! बोले- देख लीजिए इन देशों में कितनी खराब है हवा

Published

on

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों से पहले आखिरी प्रेसिडेंशियल डिबेट में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत, रूस और चीन की यह कहते हुए आलोचना की कि इन देशों की हवा की गुणवत्ता बेहद खराब है। ट्रंप ने कहा कि भारत और रूस अपनी हवा का ख्याल नहीं रखते हैं। उन्होंने इस मामले में अमेरिका की तारीफ करते हुए कहा कि अमेरिका हमेशा अपनी हवा की गुणवत्ता का ख्याल रखता है।

बहस के दौरान ट्रंप ने अपने प्रतिद्वंदी और डेमोक्रेटिक प्रत्याशी जो बिडेन से कहा, “चीन को देखिए, वहां कितनी गंदी हवा है। रूस को देखिए, भारत को देखिए। इन देशों की हवा गंदी है। मैं पेरिस समझौते से बाहर निकल गया, क्योंकि हमें खरबों डॉलर निकालने थे। हमारे साथ बहुत गलत व्यवहार किया गया था। पेरिस समझौते के कारण मैं लाखों नौकरियों और हजारों कंपनियों का बलिदान नहीं करने वाला।”

गौरतलब है कि पिछले साल अमेरिका ने औपचारिक रूप से पेरिस जलवायु समझौते से खुद को बाहर कर लिया था और संयुक्त राष्ट्र को इसकी जानकारी दी थी। जलवायु परिवर्तन की दिशा में पेरिस समझौता एक वैश्विक समझौता था, जिसे लागू कराने में ट्रंप के पूर्ववर्ती राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अहम भूमिका अदा की थी। पेरिस जलवायु समझौते का मकसद वैश्विक तापमान को अच्छे प्रयासों से 2 डिग्री सेल्सियस तक कम लाना था।

आखिरी प्रेसिडेंशियल डिबेट में दोनों नेताओं ने कोरोना संक्रमण की वजह से एक-दूसरे से हाथ नहीं मिलाया। अमूमन प्रेसिडेंशियल डिबेट शुरू होने से पहले दोनों उम्मीदवार गर्मजोशी से हाथ मिलाते रहे हैं। बहस के दौरान कोरोना महामारी को लेकर ट्रंप पर उनके प्रतिद्वंदी और डेमोक्रेटिक प्रत्याशी जो बिडेन ने निशाना। बिडेन ने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप के पास कोविड-19 से लड़ने का कोई प्लान नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना से हुई मौतों के लिए जिम्मेदार शख्स को राष्ट्रपति नहीं बने रहना चाहिए।

वहीं, डोनाल्ड ट्रंप कोरोना महामारी पर अपना बचाव करने के साथ इस मुद्दे पर दूसरे देशों से अमेरिका को बेहतर बताते दिखे। उन्होंने कहा है कि हमारे पास कोरोना वायरस का एक टीका आने वाला है। उन्होंने कहा है कि मैं अस्पताल में था और यह मेरे पास था।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *