Connect with us

विशेष

फांसी देने से पहले जल्लाद अपराधी से कहता है ऐसी बात जिसे नहीं जानते होंगे आप

Published

on

किसी को फांसी देते समय कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। इसमें फांसी का फंदा, फांसी देने का समय, फांसी की प्रकिया आदि शामिल हैं। भारत में जब किसी अ पराधी को फांसी होती है तो जल्लाद कैदी को फांसी देने से पहले उसके कान में कुछ कहता है। इसके बाद ही अ पराधी को फांसी दी जाती है।

फांसी देते समय कुछ ही लोग उस जगह मौजूद रहते हैं। इनमें फांसी देते वक्त वहां पर जेल अधीक्षक, एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट, जल्लाद और डाॅक्टर रहते हैं। इन 4 लोगों का होना बहुत जरूरी है। इनके बिना भारत में किसी को भी फांसी नहीं दी जा सकती।

फांसी पर लटकाने से पहले कैदी के कान में ये कहता है जल्लाद - Education AajTak

जल्लाद फांसी देने से पहले बोलता है कि मुझे माफ कर दो। हिंदू भाई को राम-राम, मुस्लिम को सलाम, हम क्या कर सकते हैं हम तो है हुकुम के गुलाम। इतना बोलकर जल्लाद फांसी का फंदा खींच देता है।

फांसी देना जेल अधिकारियों के लिए बहुत बड़ा काम होता हैं और इसे सुबह होने से पहले ही निपटा दिया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि दूसरे कैदी और काम प्रभावित ना हो।

फांसी देने से पहले जल्लाद कैदी के कान में कहता है एक बात, क्या आप जानते हैं इसका राज़?

इसके अलावा एक नैतिक कारण ये भी है कि जिसको फांसी की सजा सुनाई गई हो उसे पूरा इंतजार कराना भी उचित नहीं है। सुबह फांसी देने से उनके घर वालो को भी अंतिम संस्कार के लिए पूरा समय मिल जाता है।

कैसे दी जाती है फांसी, सुबह का वक्त ही क्यों, फांसी से पहले कैदी के कान में क्या कहता है जल्लाद?

भारत में फांसी देने के लिए केवल दो ही जल्लाद हैं। वैसे तो इन्हें सरकार 3000 रुपये महीने देती है लेकिन आ तंकवादियों को फांसी देने पर इन्हें ज्यादा पैसे दिए जाते हैं।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.