fbpx
Connect with us

विशेष

भाई ने अपनी ही सगी बहन से कर लिया निकाह…बने पति-पत्नी, वजह जानकर पूरा का पूरा शहर हैरान

Published

on

भाई-बहन के बीच रिश्ता बेहद पाक माना जाता है मगर यहां बरेली तो दोनों के दरमियां आशिक और माशूका वाला प्यार पनप गया।

अंजाम निकाह तक पहुंच गया। दोनों बन गए बीवी और शौहर। कितने हैरत की बात है कि मां-बाप का साया छिन जाने के बाद बहन-भाई ने रिश्ते के मायने ही बदल लिए। भाई प्रेमी बन गया तो बहन माशूका। नापाक रिश्ते को मुकाम देने की राह में घर वालों के डर का विरोध रहा तो घ भाग गए अजमेर। जहां उस रिश्ते में बंध गए, जो कि हराम माना जाता है।

मामला  दिल्ली से करीब ढाई सौ किमी दूर यूपी के बरेली का है। एक ही खून वाली संतानों के बीच हुई इस शादी को लेकर शहर के मुफ्ती भड़क गए हैं। उन्होंने इसे हराम बताकर भाई को लानत देते हुए तत्काल निकाह से अलग होने का फरमान सुनाया है, वहीं कौम से अपील की है कि जब तक शरीयत के रास्ते पर दोनों नहीं आते तब तक हुक्का-पानी बंद कर दिया जाए।

क्या है मामला : 

बरेली के किला निवासी महिला अफसाना(बदला नाम) की करीब 18 साल पहले पति से अनबन होने पर तलाक हो गया था। जिसके बाद पति बेटा विक्की पहलवान को लेकर अलग रहने लगा। वहीं महिला ने दूसरी शादी रचा ली। जिससे तीन बेटियां और एक बेटा हुआ। इसमें से बड़ी बेटी ने मां की पहली संतान विक्की से नजदीकियां बढ़ने पर निकाह किया।

ऐसे बढ़ी बहन से नजदीकियां : 

जब पिता के पास रह रहे विक्की पहलवान को पता चला कि उसकी मां खत्म हो गई है तो वहघर पहुंचा और मं के जनाने में हिस्सा लिया। यहां उसकी पहचान नाबालिग बहन से हुई। धीरे-धीरे  मां-बाप बगैर रह रहीं बहन को बतौर भाई के संबल देने की कौन कहे, प्रेमी बन गया। नजदीकियां बढ़ने पर भाई-बहन प्यार करने लगे।

शादी करने वाली लड़की के मां-बाप नहीं : 

अफसाना के दूसरे शौहर की कुछ समय बाद मौत हो गई।  इसके बाद ही अफसाना की भी मौत हो गई।  जिस पर उसकी तीन बेटियां और एक बेटा के सिर से मां-बाप का साया छिन गया।

घर के विरोध के डर से अजमेर जाकर किए निकाह : 

भाई-बहन को पता था कि घर वाले उनकी शादी को इजाजत नहीं देंगे। लिहाजा वे दोनों घर से भागकर शादी करने का फैसला लिए। जिस पर उन्होंने अजमेर जाकर शादी रचाई।

थाने में हुआ हंगामा : 

परिवार वालों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई तो पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया। किला थाने में परिवार वाले पहुंचे और लड़की को भाई का हवाला देकर  निकाह तोड़ने की बात कही मगर लड़की ने कहा कि वह उन्हें शौहर मान चुकी है, उसके बगैर नहीं रह सकती।

एक मां होने पर शरीयत में निकाह हराम : 

बरेली की मशहूर दरगाह आला हजरत के मुफ्ती सैयद मुहम्मद कफील हाशमी कहते हैं कि शरीयत एक मां की कोख से पैदा हुए लड़का-लड़की के बीच निकाह की इजाजत नहीं देती। वे अगर शारीरिक संबंध बनाते हैं तो यह जिना यानी दुष्कर्म जैसा होगा। भाई बहन से तौबा नहीं करता है तो कौम हुक्का-पानी बंद कर दे।

video of the day

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *