Connect with us

विशेष

भारत का वो गांव जिसमें हैं सिर्फ 75 घर और इस गांव ने देश को दिए 47 IAS अधिकारी

Published

on

भारत एक विशाल देश है। यहाँ प्रतिभा की कोई कमी नहीं हैं। भारत के हर गाँव, मोहल्ले और शहर में आपको एक से बढ़कर एक प्रतिभाशाली लोग मिलेंगे। साथ ही, भारत में ऐसे लाखों लोग होंगे जिन्हें उपयुक्त माहौल व अवसर न मिलने के कारण उनका टैलेंट दब जाता है। खैर हम यहाँ हम बात एक अनोखे गाँव माधोपट्टी की कर रहे हैं।

माधोपट्टी गाँव ने को इतने आईपीएस, आईएएस और आईएस अधिकारी दिए हैं जितने भारत के किसी अन्य गाँव, यहाँ तक कि शायद किसी अन्य राज्य में भी नहीं हैं। आइए जानें जानते इस गाँव के बारे में कुछ और रोचक बातें। माधोपट्टी गाँव उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में स्थित है। यह गांव भारत का एकमात्र ऐसा गाँव है जिसमें कुल 47 IAS(भारतीय प्रशासनिक सेवा) और PCS अधिकारी हैं।

माधोपट्टीदेखने में तो यह मात्र 75 घरों वाला एक छोटा सा गांव हैं लेकिन जब आप इस गांव का इतिहास जानेंगे तो हैरान रह जाएंगे। वर्तमान में इस गांव के 47 आईएएस अधिकारी विभिन्‍न विभागों में मौजूद हैं। इस गाँव का योगदान यहीं तक ही सीमित नहीं है बल्कि यहाँ के लोग इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन), विश्‍व बैंक और अन्य विभागों के उच्च पदों पर मौजूद हैं।

75 घरों वाले माधोपट्टी गांव में हैं 47 आईएएस और आईपीएस अधिकारी

सबसे पहले सन 1914 में जाने-माने कवि वामिक जौनपुरी के पिता मुस्तफा हुसैन ने सिविल सेवा को ज्वाइन किया। 1952 में इस गांव के इन्दू प्रकाश सिंह का आईएएस परीक्षा में सिलेक्शन दूसरी रैंक के साथ हुआ। इसके बाद इन्दू प्रकाश सिंह से प्रेरित होकर माधोपट्टी गाँव के हर लड़के या लड़की में अधिकारी बनने की होड़ सी लग गई।

Image result for 75 घरों वाले माधोपट्टी गांव में हैं 47 आईएएस और आईपीएस अधिकारी

गाँव एक एक बुज़ुर्ग राम नारायण मौर्य के अनुसार, इस गाँव की एक अद्वितीय बात यह है कि माता-पिता अपने बच्चों को बचपन से ही ऑफिसर्स से मुकाबला करना और उनसे सीखना सिखाना शुरू कर देते हैं। यह साथियों का दबाव ही है जो बच्चों को शुरू से ही कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करता है। हर बच्चा पडोसी के बच्चे से बेहतर करना चाहता है और हम खुश हैं की हमारा गाँव श्रेष्ठता और सफलता की इस स्वस्थ दौड़ का हिस्सा है”।

Image result for 75 घरों वाले माधोपट्टी गांव में हैं 47 आईएएस और आईपीएस अधिकारी

माधोपट्टी गाँव से बने पहले आईएएस इन्दू प्रकाश सिंह इंग्लैंड सहित दुनिया के कई देशों में भारत के राजदूत भी रहे। इस गाँव के चार सगे भाइयों ने आईएएस बनकर इतिहास रचा जो कि अब तक कीर्तिमान है। इनमें से एक भाई बिहार के चीफ सेक्रेटरी के पद से रिटायर हुए। माधोपट्टी गाँव के ही श्रीप्रकाश सिंह उत्तर प्रदेश के वर्तमान नगर विकास सचिव हैं।

माधोपट्टी गाँव के बेटों ने ही नहीं बल्कि गाँव की बेटियां ने भी आईएएस और आईसीएस (IRS; आंतरिक राजस्व सेवा) में अपना योगदान दिया है। अगर उच्च सेवाओं जैसे आईएएस और आईपीएस से नीचे की बात करें तो माधोपट्टी गाँव का लगभग हर सदस्य उच्च पदों पर मौजूद है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *