Connect with us

क्रिकेट

मुश्ताक अली ट्रॉफी को गरीबों का टूर्नामेंट कहे जाने पर बीसीसीआई पर भड़के गावस्कर

Published

on

Sunil Gavaskar टीम इंडिया के कप्तान और महानतम सलामी बल्लेबाज माने जाते हैं। इसके अलावा उन्हें बेबाक टिप्पणियों के लिए भी जाना जाता है।

नई दिल्ली : टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने कहा कि कोरोना वायरस (CoronaVirus) के मद्देनजर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 13वें सीजन को स्थगित करने का उचित कदम उठाया है। उन्होंने अपने कॉलम में लिखा कि यह खेल से ज्यादा राष्ट्र और खिलाड़ियों की सुरक्षा का मामला है। यह अच्छी बात है कि बदनाम बीसीसीआई ने सुरक्षा को पहले रखा।

मार्क बाउचर ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दी अनोखी सलाह, टीममेट्स को फोन बंद करने को कहा

बीसीसीआई पर उठाए सवाल

इसके साथ ही गावस्कर ने बीसीसीआई अधिकारी की एक कमेंट पर भड़के नजर आए। अधिकारी ने कथित तौर पर कहा था कि बीसीसीआई सुनिश्चित करेगा कि आईपीएल की क्वॉलिटी न गिरे और यह गरीबों वाला टूर्नामेंट ना लगे। वह आईपीएल को मुश्ताक अली ट्रॉफी की तरह होते हुए नहीं देख सकते, जिसमें विदेशी खिलाड़ी हिस्सा न लें। इससे भी एक कदम आगे जाकर अधिकारी ने कहा था कि हम इसे मुश्ताक अली टूर्नामेंट नहीं बनाना चाहते। इसी टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए गावस्कर ने कहा कि अगर यह सही है तो बेहद घटिया बयान है। यह उस महान क्रिकेटर की बेइज्जती है, जिनके नाम पर यह ट्रॉफी खेली जाती है। इसके आगे गावस्कर ने यह भी कहा कि दूसरी बात यह है कि क्या यह गरीबों वाला टूर्नामेंट है? इस पर भी प्रकाश डाला जाए कि क्यों यह टूर्नामेंट गरीबों वाला है। सिर्फ इसलिए क्योंकि इसमें विदेशी खिलाड़ी नहीं खेलते। या इसलिए, क्योंकि इसमें भारत के भी अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी नहीं हिस्सा लेते? उन्होंने कहा कि ऐसा शेड्यूलिंग की वजह से है और बीसीसीआई को इस पर ध्यान देना चाहिए।

कोरोना का दंश : केन रिचर्डसन ने बताई उन 26 घंटे की कहानी, जब रहे अलग-थलग

विदेशी खिलाड़ियों की वीजा में दिक्कत के कारण ही आईपीएल में हो रही है देरी

बता दें कि खेल मंत्रालय के यह स्पष्ट करने के बाद कि विदेशी खिलाड़ियों को 15 अप्रैल तक वीजा नहीं मिलेगा, आईपीएल को टाला गया है। आईपीएल की शुरुआत 29 मार्च से होनी थी। गावस्कर ने कहा कि अब आईपीएल का होना इस पर निर्भर करता है कि कोविड-19 का फैलाव कितनी जल्दी नियंत्रित होता है। 15 अप्रैल तक विदेशी खिलाड़ियों की वीजा नहीं मिल रहा, इसलिए टूर्नामेंट की शुरुआत होने में देर हो रही है। विदेशी खिलाड़ी टूर्नामेंट में अलग चमक लेकर आते हैं और इसलिए उनका होना बहुत जरूरी है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *