fbpx
Connect with us

रिश्ते

मैं एक अच्छी पत्नी नहीं बन पाई….जो मेरे पति मुझसे चाहते हैं वो मैं उन्हें नहीं दे पाई

Published

on

बुधवार को एक अध्यापिका ने अपनी चुन्नी से फंदा लगाकर आत्मह’त्या कर ली। वह दो दिन पहले ही अपने चाचा की बहू यानी अपनी भाभी की गमी से लौटी थी। घटनास्थल से पुलिस को रुमाल पर दो तरफ लिखे सुसाइड नोट भी मिले हैं। इनमें एक पत्र उसने अपने छोटे भाई और दूसरा पत्र मंगेतर को लिखा है।

खास बात यह है कि दोनों ही पन्नों में मृतका ने अच्छी बहन और अच्छी पत्नी न बन पाने का पश्चाताप किया है। वह भी तब जब उसकी शादी 10 मार्च को होनी है। फिलहाल आत्मह’त्या के कारणों का कोई पता नहीं चल सका है। क्योंकि उसके दोनों मोबाइल पासवर्ड से लॉक हैं। जांच के बाद ही पता चलेगा कि उसने आखिरी बार किसे फोन किया और कितनी देर बात की।

थानाधिकारी राजेंद्र कुमार ने बताया, 26 वर्षीय मृत निशा चौधरी टीचर थी। यहां वह गणेश विहार कॉलोनी स्थित एक मकान में किराए पर रहती थी। बुधवार को सुबह 10 बजे पुलिस के पास फोन आया कि शिक्षिका का कमरा अंदर से बंद है। आवाज देने पर भी वह कमरा नहीं खोल रही है। इस पर पुलिस ने मौके पर जाकर देखा तो निशा चुन्नी का फंदा बनाकर पंखे से लटकी हुई थी। इस पर उसका शव उतारकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवाया। घटना के संबंध में मृत शिक्षिका के पिता की ओर से आत्मह’त्या करने का मामला दर्ज कराया गया है।

मैं एक अच्छी बहिन नहीं हूं…सॉरी भैया :” अपने छोटे भाई के नाम  लिखे पत्र में निशा ने कहा है कि मेरा भाई मुझे दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार करता है। वो मेरे से छोटा है, लेकिन उससे मैंने जिंदगी जीने का तरीका सीखा, उड़ना सीखा, सोच बदली, नजरिया बदला। वो मेरे लिए सारी दुनिया से लड़ता था। अगर कोई भी मेरी तरफ देखता तो उसे मेरे सामने झुका देता था। लेकिन, अफसोस, शायद मैंने आज तक उसे एक भी खुशी नहीं दी। मैं एक अच्छी बहन नहीं हूं। सॉरी भाई।

मंगलवार रात मंगेतर ने किया था फोन : पिता गोपाल राम ने थाने में मामला दर्ज कराया कि किराए पर रह रही 26 वर्षीय निशा की सगाई कर रखी थी। मंगलवार 22 जनवरी रात 10 बजे राहुल ने कॉल करके निशा द्वारा मोबाइल रिसीव नहीं करने के बारे में बताया। बुधवार को मकान मालिक ने उसकी पत्नी के मोबाइल पर कॉल करके निशा द्वारा कमरा नहीं खोलने की सूचना दी थी। इस पर हमने नगर स्थित निशा के कमरे पर जा कर देखा तो वह पंखे से झूल रही थी।

मैं ही पति के दुःख का कारण हूं… : अपने मंगेतर के नाम 19 दिसंबर, 2018 को लिखे पत्र में निशा ने कहा है कि मैंने खुद अपने आपको ऐसे मोड पर लाकर खड़ा कर दिया है, जहां सिर्फ और सिर्फ….हैं। एक बात और जिन अल्फाजों को लिखने के लिए मैं जिस कागज का प्रयोग कर रही हूं, वह मेरे पति के खून से सना है। जो मेरे कान्हा (पति) चाहते हैं, मैं उन्हें नहीं दे पा रही हूं। इस पूरे जहां में कोई ऐसी पत्नी है जो उसके पति के दुःख का कारण बने। नहीं होगी कोई भी। लेकिन, मैं बताऊं, ऐसी पत्नी मैं हूं। मैं एक अच्छी पत्नी नहीं हूं और इस पत्नी का पति बहुत अच्छा है। सॉरी बाबू।

घर में चल रही थी शादी की तैयारियां : मृत शिक्षिका निशा चौधरी की 10 मार्च को शादी होनी थी। मंगेतर राहुल भी शिक्षक है। घर वाले उसकी शादी की तैयारियों में जुटे हुए थे। गोपाल राम जाट ने बताया कि उसने निशा को सोमवार को अच्छे माहौल में घर से भेजा था। आत्मह’त्या करने जैसा कदम उठाने का कोई कारण नजर नहीं आ रहा था। पूरा परिवार शादी की तैयारियों में जुटा था। गत 16 जनवरी को ही उसके भाई की बहू का निधन हो जाने के कारण उसने निशा को एक दिन की छुट्टी लेकर घर बुलाया था।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *