Connect with us

Uncategorized

मॉडल की आपबीती: वो मेट्रो में घुसा और अचानक मेरी शर्ट में हाथ डाल दिया

Published

on

ऑस्‍ट्रेलिया की जानी-मानी मॉडल जेसिका ले ने अपने साथ हुई एक असामान्‍य घटना को साझा किया है। जेसिका ने बताया है कि उनके साथ ऑस्‍ट्रेलियाई मेट्रो (सब-वे) में छेड़खानी हुई थी और उन्‍हें इस बात पर अफसोस है कि वो उस पल कुछ कर नहीं पाईं। जेसिका ने घटना का जिक्र अपने फेसबुक पेज पर किया है जो इन दिनों ऑस्‍ट्रेलिया में सुर्खियां बनी हुई हैं। तो आईए आपको विस्‍तार से बताते हैं कि क्‍या हुआ था जेसिका के साथ और फेसबुक पर क्‍या लिखा है उन्‍होंने।

एक अजनबी शख्‍स ने डाल दिया शर्ट के अंदर हाथ

एक अजनबी शख्‍स ने डाल दिया शर्ट के अंदर हाथ जेसिका ने फेसबुक पर लिखा है कि जैसे मेट्रो का दरवाजा खुला एक शख्‍स अंदर आया और आनन-फानन में उसने मेरी शर्ट के अंदर हाथ डाल दी। वो मेरे स्‍तनों को गलत तरीके से टच कर रहा था। जेसिका ने आगे लिखा कि ‘ इससे भी हैरान करने वाली बात ये थी कि मैं इस पर कुछ कह नहीं पाई। जेसिका ने लिखा कि मैं कोई विवाद खड़ा करना नहीं चाहती थी इसलिए मैंने उसपर ध्‍यान ही नहीं दिया।

मेरा गुस्‍सा अभी खत्‍म नहीं हुआ

मेरा गुस्‍सा अभी खत्‍म नहीं हुआ जेसिका ने फेसबुक पर लिखा है कि ‘ हमें (लड़कियों को) बचपन से ही यही सिखाया जाता है कि अशिष्ट, गौण, या टफ न बनो क्‍योंकि इससे कुछ हासिल नहीं होगा। वो लिखती हैं कि लड़कियों के अंदर अच्‍छा बनने के लिए डाली गई यही बात उन्‍हें आज मुसिबत में फंसने को मजबूर कर रही हैं

ऐसे लोगों को माफ नहीं करना चाहिए

ऐसे लोगों को माफ नहीं करना चाहिए उस पल को याद करते हुए जेसिका का कहना है कि कुछ दिन हो गए उस घटना को लेकिन मैं अभी भी उसे लेकर खासा गुस्‍से में हूं। ऐसा इसलिए क्‍योंकि उस शख्‍स ने मेरा यौन उत्‍नीड़न किया और मैं कुछ नहीं कर सकी। उनका कहना है कि ऐसे लोगों को जाने देना अच्‍छा नहीं है।

बहुत से लोग यौन उत्‍पीड़न के मुद्दे पर चुप रहते हैं

बहुत से लोग यौन उत्‍पीड़न के मुद्दे पर चुप रहते हैं उस शख्‍स के खिलाफ कार्रवाई करने की बात करते हुए जेसिका ने अपने फेसबुक पोस्‍ट को समाप्‍त कर दिया। उन्‍होंने लिखा कि हर मर्द ऐसे नहीं होते। कुछ मर्दों के चलते सभी को बुरा कहा जाता है। जेसिका ने लिखा कि बहुत से लोग यौन उत्पीड़न के लिए मौन खड़े रहते हैं हैं, जो अक्सर एक महिला के मुद्दे के रूप में देखा जाता है जबकि यह स्पष्ट रूप से एक मानव मुद्दा है।”

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.