Connect with us

विशेष

रु ला देंगे उन्नाव की बेटी के वो अंतिम शब्द, कलेजा मजबूत हो तभी पढ़िएगा

Published

on

वो बहुत हिम्मत वाली थी, अपनी जिंदगी के लिए आखिरी सांस तक लड़ती रही। खुद से, दुनिया से, सिस्टम से, लेकिन किस्मत के आगे हार गई। 95 प्रतिशत जलने के बाद भी वह अपनी लड़खड़ाती जुबान से कहती रही, मैं जीना चाहती हूं… मुझे ज लाने वालों को छोड़ना मत! लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद उन्नाव रे प पी ड़िता आखिरकार जिंदगी की जंग हार गई। शुक्रवार रात 11:40 पर सफदरजंग अस्पताल में पी ड़िता ने आखिरी सांस ली और न चाहते हुए भी इस दुनिया को अलविदा कह गई।

Image result for उन्नाव की बेटी

सफदरजंग अस्पताल के प्रवक्ता ने जैसे ही उन्नाव रे प पी ड़िता के निध न की पुष्टि की, देश वासियों के आंखे भर आई। देश की एक और बेटी है वानियत के चलते यह दुनिया छोड़ गई। सफदरजंग अस्पताल के मेडिकल सुपरिडेंट डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया था कि जब वो ज़िंदा थी, बात कर सकती थी। बार बार वह अपने भाई से कह रही थी कि उसे छोड़ना नहीं है। बार-बार रिपीट कर रही थी, “क्या मैं बच जाऊंगी? मैं म र ना नहीं चाहती।”

Image result for उन्नाव की बेटी

भाई सिर्फ दिलासा देता रह गया और अपनी बहन को जाने से नहीं रोक पाया। भाई को दु:ख है कि वह अपनी राखी का कर्ज नहीं उतार पाया। पी ड़िता की मौत के बाद भाई ने कहा कि बहन के श व को तो जलाया भी नहीं जा सकता, क्योंकि इसमें ज लाने जैसा कुछ है ही नहीं। भाई ने कहा कि हम श व को अपने गांव ले जाएंगे और वहीं शव को दफना देंगे क्योंकि अब उसमें ज लाने लायक कुछ भी बचा नहीं है।

इतना कुछ होने के बाद भी पी ड़िता के पिता का कहना है कि रूलिंग पार्टी या प्रशासन की तरफ से कोई वरिष्ठ व्यक्ति हमसे मिलने नहीं आया। उन्होंने अपना गुस्सा जताते हुए कहा, या तो हैदराबाद की तरह उनका एन काउंटर किया जाए या फिर उनको फां सी की सजा हो। उन्होंने आगे यह भी बताया कि रे प आ रोपी जमानत मिलने के बाद मेरी बेटी और मेरे साथ-साथ परिवार के अन्य सदस्यों को लगातार ध मका रहे थे, लेकिन पुलिस ने कोई कदम नहीं उठाया।

Image result for उन्नाव की बेटी

आखिर कब तक निर्भया, दिशा और उन्नाव पी ड़िता जैसी लड़कियों को देश के कमजोर और खोखले कानून व्यवस्था की खातिर अपनी जा न देनी पड़ेगी। हाल ही में हैदराबाद में कानून के रखवालों ने ए नकाउंटर कर रे प पी ड़िता के आ रोपियों को सजा दे दी, लेकिन आमजन में इस एन काउंटर को लेकर खुशी के साथ आक्रो श इस बात का है, कि यह सजा कानून के रखवालों को क्यों देना पड़ी, बजाय कानून के। वहीं अब सवाल यह उठता है कि क्या निर्भया और उन्नाव पी ड़िता केस में कानून के रखवालों को ही आगे आना पड़ेगा या फिर हमारी लचीली कानून व्यवस्था के चलते यह पी ड़िताएं इंसाफ का इंतजार करती रहेंगी। फिलहाल हमारी लचीली न्याय व्यवस्था के चलते आज एक और निर्भया इस दुनिया को अलविदा कह गई।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.