Connect with us

विशेष

वाहन मालिक सावधान: अगर 15 अप्रैल तक नहीं किया यह काम, तो कटेगा 5500 रुपये का चालान

Published

on

HSRP Deadline: अगर आप उत्तर प्रदेश के नोएडा में रहते हैं और आपने अभी तक अपनी कार या दोपहिया वाहन में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) नहीं लगाया है, तो बेहतर होगा कि आप अपने वाहन को पार्किंग में खड़ी कर दें। क्योंकि राज्य परिवहन विभाग ने एचएसआरपी को लेकर अभियान शुरू कर दिया है।

15 अप्रैल से आपके वाहन में HSRP (एचएसआरपी) का होना अनिवार्य है। अगर आपके कार, स्कूटर या मोटरसाइकिल में HSRP नहीं पाया गया तो आपके वाहन का मोटा चालान कट जाएगा। हालांकि आप इस परेशानी से बच सकते हैं। इसके लिए आपको क्या करना होगा यह खबर में आगे पढ़ें।

50 फीसदी वाहनों में भी नहीं है एचएसआरपी

उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले में वाहन मालिक एचएसआरपी को लेकर वाहन चालक ज्यादा गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। लिहाजा जिला प्रशासन ने एलान किया है कि जिन वाहनों में एचएसआरपी नहीं लगा है 15 अप्रैल के बाद उन्हें 5500 रुपये चालान भरना पड़ेगा।

रिपोर्ट के मुताबिक गौतमबुद्ध नगर जिले में 50 फीसदी वाहनों में भी एचएसआरपी नंबर प्लेट नहीं लगाई गई हैं। जिले में लगभग 7.5 लाख वाहन पंजीकृत हैं और यहां चलने वाले लगभग 2.5 लाख वाहन अन्य जिलों में पंजीकृत हैं। इसका मतलब है कि जिले की सड़कों पर लगभग 10 लाख वाहन चलते हैं।

ये पर्ची है तो नहीं होगा चालान

दरअसल, जिन लोगों ने अभी तक अपने वाहन में एचएसआरपी नहीं लगवाया है वे इसे ऑनलाइन बुक कर सकते हैं। जिले में कई लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने ऑनलाइन बुकिंग की है और उन्हें एचएसआरपी के लिए दो से तीन महीने तक का वेटिंग पीरियड मिला है। जिन लोगों ने ऑनलाइन बुकिंग की है, उन्हें सलाह दी जाती है कि वे गाड़ी चलाते समय अपने एचएसआरपी के पंजीकरण की पर्ची को अपने साथ रखें। चेकिंग के दौरान इस पर्ची को दिखाने पर चालान जारी नहीं किया जाएगा।

HSRP क्या है

HSRP एक होलोग्राम स्टिकर है, जिसमें वाहन का इंजन नंबर और चेसिस नंबर दर्ज रहता है और इसे वाहन की नंबर प्लेट पर चिपकाया जाता है। इस हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को वाहन की सुरक्षा और सुविधा के लिए डिजाइन किया गया है। जिसे एक बार वाहन पर लगाने के बाद आसानी से हटाया नहीं जा सकता है।

जानिए वाहन दुर्घटना होने पर भारतीय कानून के बारे में खास बातें | motor  vehicle act

HSRP लगाने के फायदे

HSRP का असल मकसद वाहनों की चोरी को रोकना है। पुलिस की पकड़ से दूर भागने के लिए चोर सबसे पहले गाड़ियों के नंबर प्लेट के साथ छेड़छाड़ करते हैं। लेकिन एल्यूमिनियम की बनी नई हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट बदली नहीं जा सकती। इसका कारण यह है कि इस प्लेट में क्रोमियम धातु से बने नीले अशोक चक्र का होलोग्राम है जो इसकी सुरक्षा को बढ़ाता है। इसके अलावा, इस प्लेट पर संख्या बाहर की तरफ उभरी हुई होती हैं।

आसान भाषा में समझें तो एचएसआरपी को ऐसे बनाया जाता है कि जैसे ही चोर इसे बदलने की कोशिश करेगा वैसी यह टूट जाएगी। ऐसे में जिसके पास वाहन के पूरे कागजात नहीं हों वह गाड़ी पर नई नंबर प्लेट नहीं लगवा सकता है। क्योंकि नई नंबर प्लेट रजिस्टर्ड जगहों से ही लगवाई जा सकती है। ऐसे में वाहन चोर के पकड़े जाने की संभावना रहेगी।

registration charges: वाहन का रजिस्ट्रेशन कराना पड़ेगा महंगा, फीस में भारी  बढ़ोतरी की तैयारी - The Economic Times

SIAM की वेबसाइट पर बुक कराएं HSRP

लोगों को HSRP बुक कराने में कोई दिक्कत न आए इसके लिए परिवहन विभाग ने सोसाइटी ऑफ ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स (SIAM) (सियाम) से करार किया है। अब वाहन मालिक को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए सियाम की वेबसाइट (siam.in) पर ही आवेदन करना होगा। सियाम एक ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है, जो हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट सप्लाई करेगी।

कंपनी के नाम से पोर्टल बनाया गया है। इस पर जाकर वाहन चालक नंबर प्लेट बुक कर सकते हैं। इस पोर्टल पर निर्धारित फीस से लेकर सभी दस्तावेज की व्यवस्था को पूरी तरह से पारदर्शी बनाया गया है। किसी भी तरह की समस्या होने पर आप अपने सवालों के जवाब के लिए हेल्प लाइन नंबर से सहायता ले सकते हैं। विभागीय अधिकारियों का दावा है कि सियाम पोर्टल पर नंबर प्लेट बुक कराने पर किसी तरह की गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं होगी।

Continue Reading
Advertisement