Connect with us

रिश्ते

शादी के पांच साल बाद घर में नया मेहमान आने वाला था..ऊपरवाले को कुछ और ही मंजूर था…

Published

on

पूरे देश में एक बार फिर कोरोना वायरस हावी हो रहा है। मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। गुजरात में 35 साल की श्वेता ने कोरोना वायरस से दम तोड़ दिया। श्वेता की शादी के पांच साल बाद घर में बच्चा आने वाला था। परिवार उसके स्वागत की तैयारी कर रहा था, लेकिन ऊपरवाले को कुछ और ही मंजूर था। श्वेता की बेटी और वह दोनों ही इस दुनिया से चले गए।

gujarat woman shweta mehta died due to corona virus know emotional story

Coronavirus death: गले में खराश… और ऐसे कोरोना ने तबाह कर दिया तापस का परिवार

गुजरात के कृषि विभाग में लेखा अधिकारी श्वेता मेहता साहू (35) को 2 हफ्ते पहले थोड़ा गले में खराश पैदा हुई। श्वेता और इंडियन एयर फोर्स में तैनात उनके पति तापस ने फैसला लिया कि ठंडा पानी नहीं पिएंगे। तापस एक मटका लेकर आए और कपल ने मटके का पानी पीना शुरू कर दिया। श्वेता के गले की खराश गायब हो गई। श्वेता और तापस के घर में नन्हा मेहमान आने वाला था। दोनों उसके स्वागत की तैयारियों में लग गए। वे बेसब्री से आने वाले बच्चे का इंतजार कर रहे थे, क्योंकि शादी के पांच साल बाद वे माता-पिता बनने जा रहे थे।

एक हफ्ते पहले हुआ डायरिया

अचानक पिछले हफ्ते सोमवार को श्वेता को डायरिया हो गया। उसे तीन-चार लूज मोशन हुए। दंपती ने आर्मी अस्पताल से डॉक्टर को बुलाया। डॉक्टर ने श्वेता को अस्पताल में भर्ती कराने की सलाह दी। अस्पताल में भर्ती करने से पहले प्रोटोकॉल के तहत श्वेता का कोरोना टेस्ट हुआ तो सब हैरान हो गए। वह कोरोना पॉजिटिव थी।

बच्चे का कराया गया जन्म

श्वेता को 23 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया और अगले दिन उसे सांस लेने में तकलीफ हुई। उसे वेंटिलेटर पर रखा गया। श्वेता की हालत बिगड़ती जा रही थी। उसके पेट में मौजूद बच्चा शरीर में दबाव डाल रहा था। बच्चे को पेट से हटाने का फैसला हुआ।

जन्म के दो घंटे बाद बच्ची ने तोड़ा दम

श्वेता की कोख से एक बेटी का जन्म हुआ। जन्म के बाद बेटी सिर्फ दो घंटे तक ही जीवित रही। तापस ने उसे गोद में उठाया, उसका चेहरा देखा लेकिन श्वेता अपनी बेटी का चेहरा भी नहीं देख सकी। अगले ही दिन 29 मार्च को श्वेता की भी मौत हो गई।

‘कुछ दर्द जिंदगी भर रहते हैं’

तापस ने कहा कि वह बिल्कुल भी स्वार्थी नहीं थी। बहुत ही दयालु थी, दिल की साफ थी। उन्होंने कहा, ‘मैं भाग्यशाली था कि वह मेरी पत्नी थी, लेकिन वह बहुत जल्दी चली गई।’ महामारी ने चारों ओर मौत का तांडव मचा रखा है। कभी-कभी कुछ दर्द कभी खत्म नहीं होते।

जीना चाहती थी श्वेता लेकिन…

तापस ने कहा कि उसकी उम्र ही क्या थी? उसे अभी नहीं जाना चाहिए था। श्वेता सबसे अलग थी। उसे लाइफ और लोगों से प्यार था। वह दुनिया के लिए कुछ काम करना चाहती थी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *