Connect with us

दुनिया

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

Published

on

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

कोरोना वायरस दुनियाभर में कहर बरपा रहा है. लेकिन क्या चीन कोरोना को लेकर कोई झूठ बोल रहा है? असल में चीन सरकार के कुछ दस्तावेज मीडिया में लीक हो गए हैं और ये दस्तावेज सरकार के दावे से अलग कहानी कहते हैं. आइए जानते हैं पूरा मामला.. (प्रतीकात्मक फोटो)

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

इस वक्त दुनिया में कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या 145,000 पार कर गई है, वहीं मृतकों की संख्या 5 हजार हो चुकी है. भारत में भी दो लोगों की मौत हो चुकी है. इटली में मृतकों की संख्या 1266 हो गई है. इससे कोरोना वायरस के कहर का अंदाजा लगाया जा सकता है.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

चीन ने कहा था कि कोरोना वायरस की शुरुआत वुहान से हुई. लेकिन चीनी अधिकारी ने 7 जनवरी को ये जानकारी दी थी उन्होंने मरीजों में नए वायरस के संक्रमण का पता लगाया है. सरकार ने कहा था कि संक्रमण का पहला मरीज एक महीने पहले 7 दिसंबर को बीमार पड़ा था. लेकिन क्या यह सच है? या चीन दुनिया के सामने अपनी नाकामी छुपा रहा है?

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट को एक क्लासिफाइड डॉक्यूमेंट हाथ लगा है. मीडिया में लीक हुआ ये सरकारी दस्तावेज चीन के दावे से अलग कहानी पेश करता है.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

सरकार का जो दस्तावेज लीक हुआ है उससे पता चलता है कि कोरोना वायरस का एक मरीज 17 नवंबर 2019 को ही ट्रेस कर लिया गया था. चीन के हुबेई प्रोविन्स में यह मरीज मिला था. वुहान हुबेई की राजधानी है.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, लीक दस्तावेज इस बात की ओर इशारा करते हैं कि 17 नवंबर को कोरोना वायरस मरीज को ट्रेस करने के करीब 2 महीने बाद चीन ने वुहान सहित कई शहरों में बड़ी कार्रवाई की थी और प्रतिबंध लगाए.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

रिपोर्ट के मुताबिक, हुबेई में रहने वाले 55 साल के शख्स के अंदर 17 नवंबर को कोरोना वायरस का संक्रमण मिला था. रिपोर्ट में बताया है कि इसके बाद से हर दिन एक से 5 नए मामले सामने आने लगे.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

आधिकारिक तौर से चीन का दावा है कि कोरोना वायरस का पहला मरीज 7 दिसंबर को मिला था. हालांकि, बड़े पैमाने पर एक्शन कई हफ्ते बाद लिए गए थे.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

वहीं, लीक दस्तावेज में इस बात की भी जानकारी मिलती है कि 31 दिसंबर से पहले तक सरकारी अधिकारियों ने कोरोना वायरस से संक्रमित 266 लोगों की पहचान कर ली थी.

 

 

सरकारी दस्तावेज लीक, कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

 

बता दें कि चीन और अमेरिका के बीच कोरोना वायरस को लेकर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाए गए हैं. अमेरिका की ओर से जहां कोरोना वायरस को चीनी वायरस कहा गया है, वहीं, चीन ने कहा है कि अमेरिकी सैनिक की वजह से चीन में ये वायरस आया.

Image result for कोरोना वायरस पर दुनिया से झूठ बोल रहा चीन?

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.