Connect with us

विशेष

सरकार का ऐतिहासिक फैसला: अब बॉर्डर के तारों में दौड़ेगा 11 हजार वोल्ट का करंट-कोई घुसकर दिखाए

Published

on

पाकिस्तानी सीमा को अभेद्य बनाने के लिए सीमा सुरक्षा बल ने कवायद शुरू कर दी है। हालांकि सीमा पर सुरक्षा का कड़ा पहरा है, लेकिन घुसपैठ की आशंका को देखते हुए पूरी तरह से तारबंदी को सील करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसी क्रम में तारबंदी पर कोबरा वायर का करंट छोड़ने की टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

इसके तहत आगामी दिनों में इसका काम भी शुरू हो जाएगा।

15 सीमा चौकियों के इलाके में बिछेगी काेबरा वायर : पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरूआत में 15 सीमा चौकियों के इलाके में लगी तारबंदी पर कोबरा वायर का कवच लगाया जाएगा। जिसमें 11 हजार वोट की बिजली दौड़ेगी। संभवतया यह शाहगढ़ बल्ज के शिफ्टिंग सेंड ड्यूंस इलाके में होगा। यदि यह प्रोजेक्ट सफल रहता है तो आगामी समय में राजस्थान से लगती लगभग 1040 किमी की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पूरी तरह से कोबरा वायर का कवच होगा।

वैसे तो कोबरा सांप की एक प्रजाति है। यह सबसे घातक सांप होते हैं। इसकी चपेट में आने वाला बच नहीं सकता है। इसी वजह से इस करंट प्रवाहित वायर को कोबरा नाम दिया गया है। इसमें हमेशा 11 हजार वॉल्ट का करंट प्रवाहित होगा। इसे छूते ही व्यक्ति वहीं पर खत्म हो जाएगा। कोबरा वायर का कवच होने पर यदि कोई घुसपैठी करंट को रोकने या कोबरा वायर को काटने का प्रयास करेगा तो अलार्म बजेगा,

जिससे वहां तैनात बीएसएफ के जवान उसे घेर सकेंगे। वायर का कवच होने पर सीमा पूरी तरह सील हो जाएगी और घुसपैठ नहीं हो सकेगी। वहीं पंजाब से लगती सीमा में ज्यादा घुसपैठ होने के बाद वहां कोबरा वायर का कवच कर दिया गया है। आईजी अनिल पालीवाल ने वहां रहते हुए यह काम करवाया था।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.