Connect with us

बिज़नेस

सोमवार शेयर मार्केट खुलने से पहले शॉर्ट सेलिंग के बदले नियमों के लिए करें खुद को तैयार, जानें इससे जुड़े अहम सवाल-जवाब

Published

on

सोमवार के दिन आपको बदले नियमों के हिसाब से अपनी रणनीति बनानी होगी। सोमवार को पहली बार होगा जबकि कि NSE ब्रोकर्स वर्क फ्रॉम होम के ऑप्शन से दलाल स्ट्रीट में अपने दांव लगाएंगे । वहीं

नई दिल्ली : बीते सप्ताह के आखिरी कोरोबारी दिन के बाजार के बाद SEBI ने मार्केट के नियमों में 2 बड़े बदलाव किये। यानि सोमवार के दिन आपको बदले नियमों के हिसाब से अपनी रणनीति बनानी होगी। सोमवार को पहली बार होगा जबकि कि NSE ब्रोकर्स वर्क फ्रॉम होम के ऑप्शन से दलाल स्ट्रीट में अपने दांव लगाएंगे । वहीं शेयर मार्केट को गिरावट से बचाने के लिए शॉर्ट सेलिंग के बदले हुए नियम भी लोगों को उनकी रणनीति बदलने पर मजबूर करेंगे । अभी भी बहुत सारे खासतौर पर नए निवेशक है जिन्हें समझ नहीं आ रहा है कि इस बदले हुए नियम का उन पर क्या असर पड़ेगा। इसीलिए अपने इस आर्टिकल में हम आपको शॉर्ट सेलिंग के बदले नियमों के मायने बता रहे हैं ताकि कल बाजार में आप उसी हिसाब से शेयर्स की खरीद-परोख्त कर पाएं.

सेबी का नये नियम से जुड़ी खबर आप यहां पढ़ सकते हैं.

शॉर्ट सेलिंग का मतलब- short selling के जरिए कोई स्टॉक मेरे पास न होने पर भी मै चाहूं तो उस स्टॉक को पहले बेचने का आर्डर देकर लाभ कमा सकते है। इस तरह जब आप कोई स्टॉक पहले बेचते है, और बाद में ख़रीदते है, तो इसे Short Selling कहा जाता है।

अब नए नियम के तहत सेबी ने शॉर्ट सेलिंग के लिए मार्जिन निश्चित कर दिया है। नए नियम के तहत मान लें कि किसी पब्लिक सेक्टर कंपनी के 100 शेयर है तो ऐसी कंपनी के अब 10 शेयर से ज्यादा f&o मार्केट में शॉर्ट सेलिंग के लिए नहीं दिये जा सके हैं। इस तरह से इन्हें बिकवाली से बचाया जा सकता है।

MWPL क्या होता है?

MWPL यानि मार्केट वाइड पोजीशन लिमिट। derivatives segment के शेयर्स में एक कारोंबारी दिन में ली जा सकने वाली पोजीशन लिमिट होती है।

100 करोड़ लोग घर में कैद, MSME सेक्टर को 1183 बिलियन डॉलर का झटका, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

अगर कोई सेबी के नियम नहीं मानता है तो क्या होगा ?

सेबी के नियम की अवहेलना करने पर यानि लिमिट न मानने पर निवेशक को पहले के मिनिमम जुर्माने का 10गुना और मैक्सिमम जुर्माने का 5 गुना फाइन देना होगा।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *