fbpx
Connect with us

विशेष

हनुमान का अवतार है रामू…लोगों के सिर पर हाथ रखते ही दूर करत देता है उनकी बीमारियां

Published

on

बजरंगगढ़ में मौजूद हनुमान जी के एक प्राचीन मंदिर में बेहद अनोखा नजारा देखने को मिलेगा। दरअसल, इस मंदिर की सेवा कोई इंसान नहीं बल्कि एक बंदर करता है। ‘रामू’ नाम का यह बंदर 8 साल से मंदिर की सेवा में लगा हुआ है। यहीं खाता-पीता है और सोता भी है। लोग यह तक कहने लगे हैं कि रामू साक्षात बालाजी का रूप है। बता दें कि मंदिर में स्थित हनुमान जी की मूर्ति का मुंह खुला हुआ है।

ऐसी मान्यता है कि भक्तों द्वारा अर्पित किया गया प्रसाद सीधा हनुमानजी के मुंह तक पहुंचता है।

भजन के समय करता है डांस : मंदिर में हनुमान चालीसा के पाठ के वक्त रामू शांत होकर चुपचाप बड़े ध्यान से उसे सुनता है। वहीं, आरती के समय घंटी और झाल बजाता है। इतना ही नहीं, भजन के समय नाचता भी है। दिलचस्प बात यह है कि मंदिर आने वाले भक्तों को वह खुद सिर पर हाथ रखकर आशीर्वाद देता है। इसके अलावा बाकी भक्तों की तरह खुद भी माथे पर टीका लगवाता है।

इनसे है करीबी रिश्ता : ओंकार सिंह इस मंदिर की चौकीदारी करते हैं। उनका कहना है कि रामू से उन्हें बेहद लगाव है। ओंकार बताते हैं, 8 साल पहले रामू किसी मदारी से छूटकर इस मंदिर में आया था। तब से यहीं रह रहा है। चौकीदार का कहना है कि जब रामू आया था तब उसकी तबीयत काफी खराब थी।

उन्होंने ही उसकी सेवा की। यही वजह है कि इन दोनों के बीच गहरा रिश्ता बन गया है। ये जिस इंसान के भी सिर पर हाथ रखकर आर्शीवाद देता है उसकी बीमारियां दूर हो जाती है। लोग इसे हनुमान का अवतार कहते हैं।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *