Connect with us

विशेष

केरल में 17 साल की लड़की से 40 लोगों ने किया रे प

Published

on

केरल के मलप्पुरम में एक नाबालिग लड़की के ब लात्कार का मामला एक दिन पहले सामने आया था, जहां उसके रिश्तेदारों सहित 44 लोगों ने पीड़िता के साथ तीन साल तक ब लात्कार किया। मामला तब सामने आया जब निर्भया सेंटर में उनके साथ काउंसलिंग सेशन चल रहा था। पीड़िता अभी महज 17 साल की है और फिलहाल बाल कल्याण समिति की देखरेख में है।

यह शर्मनाक मामला केरल के मलप्पुरम जिले के पांडिकाद पुलिस स्टेशन का है। पुलिस ने इस संबंध में 44 पुरुषों के खिलाफ 32 मामले दर्ज किए हैं। अब तक 22 लोगों को गिरफ्ता र किया गया है जबकि बाकी की गिरफ्ता री के प्रयास किए जा रहे हैं। गिरफ्ता र आरो पी फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं और कानूनी कार्यवाही चल रही है। काउंसलिंग के दौरान पीड़िता ने जब अपनी कहानी बताई तो हर कोई हैरान रह गया।

पीड़िता ने मजिस्ट्रेट के सामने भारतीय दंड संहिता की धारा 164 यानी सीआरपीसी के तहत एक बयान दर्ज कराया है। पीड़िता ने जो खुला सा किया उसे जानकर आप भी चौंक जाएंगे। पीड़िता के मुताबिक, 13 साल की उम्र से उसका यौ न शोष ण किया गया था। यहां तक ​​कि पीड़ित के रिश्तेदारों ने उसका तीन बार यौ न शोष ण किया।
19 साल की लड़की को एक रात में 20 मर्दों के साथ सोने पर किया मजबूर - Rashtra  Times

एक साल बाद, उन्हें इसी तरह की यातना के अधीन किया गया। दूसरी घटना के बाद, उन्हें एक बच्चों के घर भेजा गया और लगभग एक साल पहले उन्हें अपनी माँ के साथ रहने की अनुमति दी गई। पुलिस ने कहा कि बच्चों के घर छोड़ने के बाद लड़की कुछ समय के लिए लापता हो गई थी और पिछले दिसंबर में पलक्कड़ में मिली थी, जहां से उसे निर्भया केंद्र लाया गया था। काउंसलिंग सत्र के दौरान, किशोरी ने निर्भया केंद्र के अधिकारियों को यौ न उत्पीड़ न और छेड़छा ड़ की घटनाओं की जानकारी दी, जिसका उसने सामना किया था।

जबकि केरल में देश में सबसे अधिक शिक्षित आबादी है, यह दूसरी सबसे बड़ी ब लात्कार दर है। NCRB की रिपोर्ट के अनुसार, केरल में प्रति लाख आबादी पर ब लात्कार के मामलों की दूसरी सबसे अधिक संख्या है, जिसमें हर एक लाख महिलाओं में से 11.1 के साथ ब लात्कार होता है, जबकि कांग्रेस शासित राजस्थान सूची में सबसे ऊपर है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.