Connect with us

अच्छी खबर

47 साल पहले बिछड़ गई थी दो बहनें, किस्मत ने दोबारा मिलाया, देखे कैसा था दोनों का रिएक्शन

Published

on

दो बहनों का रिश्ता बड़ा ही प्यारा और अनोखा होता हैं. ये एक दुसरे से सभी बातें शेयर करती हैं. बड़ी बहन छोटी बहन के लिए एक तरह से माँ का काम भी करती हैं. दोनों एक दुसरे की देखभाल करते हैं और सुख दुःख में साथ खड़े भी रहते हैं. हालाँकि हर किसी की किस्मत इतनी अच्छी नहीं होती हैं. कई बार लोग अपने भाई बहनों से ऐसे बिछड़ते हैं कि कई सालों तक मिल नहीं पाते हैं. ऐसे ही कुछ साल कंबोडिया की रहने वाली दो बहनों का भी हुआ. दरअसल 98 वर्षीय बन सेन पिछले सप्ताह ही किस्मत से अपनी 101 वर्षीय बहन बन चिया और 92 वर्षीय भाई से मिल सकी हैं. हैरत की बात तो ये हैं कि इन दोनों बहनों की मुलाकात पुरे 47 साल बाद हुई हैं. ऐसे में जब ये इतने वर्षों बाद दोबारा मिले तो दोनों की प्रतिक्रियाएं दिल छू लेने वाली थी.

इतने सालों तक ना मिल पाने की एक वजह ये हैं कि दोनों को ही ये लगता था कि मेरी बहन की मौत हो गई होगी. अंतिम बार इन दोनों ने एक दुसरे को साल 1973 में देखा था. ये तब की बात हैं जब कंबोडिया में पोल पॉट के नेतृत्व वाली खमेर रूज (कंबोडिया की कम्यूनिस्ट पार्टी) में आ गई थी. इस खेमर रूज के शासन काल (1975-1979) में तक़रीबन 20 लाख लोग मौत के घाट उतर गए थे. बस यही वजह हैं कि दोनों को लगा कि शायद उनकी बहनें मर गई होगी.

इन दोनों बहनों को मिलाने का श्रेय स्थानीय एनजीओ ‘चिल्ड्रन्स फंड’ को जाता हैं. इस एनजीओ को अचानक एक गाँव में पिछले हफ्ते बन के भाई और बहन मिल गए थे. ऐसे में उन्होंने इनकी आपस में मुलाकात करवा दी. जब पोल पॉट का शासन चल रहा था तो बन सेन अपना पति खो चुकी थी. ऐसे में अपनी जीविका चलने के लिए वे कचरा बिना करती थी. इनका कहना हैं कि मैंने ये सोच बहुत पहले अपना गाँव छोड़ दिया था कि मेरे भाई बहन मर गए होंगे.

बन सेन की बड़ी बहन बन चिया का पति भी खेमर रूज द्वारा मारा गया था. ऐसे में वो अपने 12 बच्चों के सतह विधवा वाले लाइफ जी रही थी. उसे भी यही लगता था कि उसकी छोटी बहन अब इस दुनियां में नहीं हैं. दरअसल पोल पॉट द्वारा उनके 13 रिश्तेदार मारे गए थे. ऐसे में उन्हें लगा कि बन भी इसी का शिकार बनी होगी.

दोनों ही बहनों ने कभी सोचा नहीं था कि उनका दोबारा मिलना होगा. ये दोनों एक दुसरे के बारे में बातचीत जरूर करती थी लेकिन यह नहीं पता था कि वे जिंदा हैं. बन सेन बताती हैं कि अपने बहन और भाई से मिलकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई. यह पहली बार था जब उसके भाई ने उसका हाथ छुआ था. इस पल ने बन सेन की आँखों में ख़ुशी के आंसू भर दिए.

इन दोनों बहनों का पुनर्मिलाप अब सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा हैं. लोग इन दोनों बहनों के लिए बहुत खुश हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पोल पॉट एक तानाशाह शासक था. उसके कार्यकाल में जो हत्याएं हुई थी उसे 20वीं सदी का सबसे बड़ा नरसंहार माना जाता हैं.

 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *