Connect with us

विशेष

50-50 रुपए के लिए जिस्म बेच रही हैं ये लड़कियां, मजबूरी ही कुछ ऐसी है-जानकर हैरान रह जाएंगे आप

Published

on

इस में होती मोटी कमाई के मद्देनजर बीते कुछ सालों में भारत समेत दुनिया के कई देशों में यह तस्करी सब से बड़े धंधे के रूप में उभरी है। कई देशों में देह व्यापार को कानूनी मान्यता हासिल है तो कहीं सबकुछ गैरकानूनी। कानून से कहीं नजर बचा कर तो कहीं उसे साथ मिला कर यह धंधा अरबों का हो चुका है।

50 रुपए के लिए जिस्म बेचने को मजबूर ये,Forcing the sale of jism for Rs 50,
भारत में तो यह गैरकानूनी है लेकिन अन्य देशों की बात करें तो चीन में देह व्यापार का धंधा करीब 73 अरब डौलर का हो चुका है।हालांकि वहां यह व्यापार गैरकानूनी है इस के बावजूद दुनिया का सब से बड़ा बाजार चीन में ही मौजूद है। चीन सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी मसाज पार्लरों, बारों और नाइट क्लबों में यह धंधा धड़ल्ले से चल रहा है।

मात्र 50 रूपये कमाने के लिए भी जिस्म को बेचने का सहारा लेती है यंहा की  औरतें और लडकिया !
वहीं, स्पेन दुनिया का दूसरा देश है जहां पौर्न व्यापार फलफूल रहा है। वहां यह व्यापार करीब 26.5 अरब डौलर का है। यूएन यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट के मुताबिक, 39 फीसदी स्पैनिश पुरुषों ने एक बार यौनकर्मी से संबंध बनाए हैं। जापान में यह व्यापार 24 अरब डौलर, जरमनी में 18 अरब डौलर, अमेरिका में 14.6 अरब डौलर, दक्षिण कोरिया में 12 अरब डौलर और थाइलैंड में 6.4 अरब डौलर का हो चुका है।

जाहिर है जहां इतनी बड़ी कमाई के विकल्प होंगे वहां देह व्यापार के नाम पर मानव तस्करी, लड़कियों की खरीदफरोख्त और उन के खिलाफ अपराध होने तय हैं।

वेश्यावृत्ति का जाल :

अगर भारत की ही बात करें, तो यहां का देह व्यापार करीब 8.4 अरब डॉलर का माना जाता है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 2013 में तकरीबन साढ़े 6 करोड़ लोगों की तस्करी की गई। इन में से अधिकतर बच्चे हैं जिन्हें देह व्यापार, बंधुआ मजदूरी या भीख मांगने के काम में लगाया गया। वाक फ्री फाउंडेशन के 2014 के ग्लोबल स्लेवरी इंडैक्स के मुताबिक, भारत में 1.4 करोड़ से अधिक लोग आधुनिक गुलामी में जकड़े हुए हैं।


वेश्यावृत्ति को कानूनी जामा पहनाने के लिए यहां लंबे समय से एक पक्ष मांग कर रहा है। बावजूद इस के, देश में आज भी इस कारोबार में कोई भी लड़की या औरत मरजी से नहीं आती, या तो हालात उन्हें इस धंधे में ले आते हैं या फिर उन्हें बेच दिया जाता हैं।

फिलीपींस, जहां यह कारोबार करीब 6 अरब डौलर का बताया जाता है, सैक्स टूरिज्म के लिए दुनियाभर में चर्चित है। भारत की तरह फिलीपींस और तुर्की जैसे देशों में गरीबी और मजबूरी की मार झेल रही नाबालिग लड़कियां देह व्यापार का हिस्सा बन रही हैं। लेकिन नेपाल की कहानी तो सब से बुरी है। वहां गरीबी और भूकंप की त्रासदी झेल रहे परिवार अपनी ही बेटियों का सौदा करने को मजबूर हैं।

बदहाल नेपाल :

धनुकी सिसकसिसक कर रो रही थी। उस के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे। पुलिस वाले कुछ भी पूछते तो उस की सिसकियां तेज हो जाती थीं। आंसू और सिसकियों के बीच वह कुछ बोलती तो समझ में कुछ नहीं आता। पुलिस वाले भी परेशान थे कि इस लड़की को किस तरह से चुप कराएं।

50-50 रुपए के लिए जिस्म बेच रही हैं ये लड़कियां, मजबूरी ही कुछ ऐसी है-जानकर  हैरान रह जाएंगे आप – Hindi Magzian

करीब एकडेढ़ घंटे के बाद जब उस का रोना बंद हुआ तो उस 14 साल की मासूम लड़की ने जो कुछ कहा, उसे सुन कर पुलिस वालों के भी होश उड़ गए। उस ने कहा, ”मैं नेपाल के रौटहट की रहने वाली हूं और जिला स्कूल में पढ़ती हूं। मेरे स्कूल के दोस्त सत्येंद्र ने मुझ से कहा था कि हम दोनों के घर वाले हमारा विवाह नहीं होने देंगे, इसलिए हम लोग घर से भाग जाते हैं और भारत में जा कर शादी कर लेंगे।

”सत्येंद्र ने कहा कि पटना में एक उस का पहचानवाला है। वह शादी का सारा इंतजाम करा देगा। हम दोनों पटना आ गए। यहां आने पर उस की नीयत बदल गई। वह मुझ से गंदे काम करने के लिए कहता था। जब मैं शादी की बात करती तो वह बहाने बनाने लगा। कुछ दिनों के बाद उस के साथ 2-4 लड़के भी आने लगे। वे लोग मेरे साथ छेड़छाड़ करने लगे। डर से मेरी आवाज नहीं निकलती थी। वे लोग जोरजबरदस्ती करते और फिर चले जाते। कई दिनों तक ऐसा ही चलता रहा। सत्येंद्र कभीकभी ही मिलने आता और कहता था कि वह मुझे रानी बना कर रखेगा, मैं राज करूंगी। एक दिन मौका मिलते ही मैं कमरे से भाग निकली और थाने आ गई।”

धनुकी की दास्तान को सुन कर पुलिस वाले भी चकरा गए। पुलिस अफसरों के दिमाग घूमने की वजह यह नहीं थी कि किसी लड़की को बहलाफुसला कर जिस्म के धंधे में धकेल दिया गया, बल्कि वे इस बात को ले कर चकराए थे कि 14-15 साल के बच्चे भी ट्रैफिकिंग के धंधे में लगे हुए हैं। आमतौर पर इतनी कम उम्र के लड़कों पर इन मामलों में पुलिस को शक नहीं होता है।कुछ इसी तरह पिछले साल 24 अगस्त को 15 साल की नाबालिग नेपाली लड़की जानकी को बहलाफुसला कर उस का पड़ोसी उसे ले भागा। नेपाल से उसे भगा कर वह पटना पहुंचा। 10वीं क्लास में पढ़ने वाली जानकी नेपाल के बीरगंज उपमहानगर पालिका क्षेत्र की रहने वाली है। उस के घर के पास ही रहने वाला विकास कुमार सोनी उस से शादी करने का झांसा दे कर उसे अपने साथ भगा ले गया।आसपास के लोगों ने बताया कि पिछली 13 जुलाई को जानकी और विकास सड़क के किनारे बातचीत कर रहे थे। लड़की के चाचा वीरेंद्र साहा ने बीरगंज थाने में दर्ज कराई गई एफआईआर में लिखवाया था कि पटना के मालसलामी महल्ले का रहने वाला लड़का विकास जानकी को बहलाफुसला कर ले भागा है।

Love Story Of Jism Firoshi In The Business Of Love On Delhi's GB Road -  जिस्म फिरोशी का धंधे में भी खिलते हैं प्यार के फूल, दिल्ली के जीबी रोड की लव

विकास नेपाल में मोबाइल टावर लगाने का काम करता था। पुलिस ने जब विकास के मोबाइल टावर की लोकेशन का पता किया तो पटना के मालसलामी इलाके में उस के होने का पता चला। लड़की के मामा शिवशंकर चौधरी ने पटना के मालसलामी थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई और एएसपी विकास वैभव को मामले की जानकारी दी गई। शिवशंकर ने बताया कि पिछली 13 जुलाई को उस की भांजी स्कूल के लिए घर से निकली थी, उस के बाद उस का कोई पता नहीं चला।

भूकंप से बिगड़े हालात :

हिमालय की गोद में बसे, प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर नेपाल ने 25 अप्रैल, 2015 और उस के बाद आए तेज व विनाशकारी भूकंप के कई झटकों को झेला। नेपाल के 26 जिलों में भूकंप ने जानमाल को काफी नुकसान पहुंचाया जबकि पश्चिमी हिस्से में इस का खास असर नहीं हुआ। करीब 10 हजार लोगों के मरने और 30 हजार लोगों के घायल होने व 7 लाख से ज्यादा घरों के मलबे में तबदील होने के बाद नेपाल में पलायन की रफ्तार तेज हो गई है। हजारों लोगों की जान गंवाने के बाद नेपाल के सामने सब से बड़ी चुनौती भूकंप के प्रकोप से बच गए लोगों और देश की पूरी व्यवस्था को दोबारा पटरी पर लाने की है।

नेपाल से लौट कर आया बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कांटी प्रखंड का रहने वाला मजदूर विमल साहनी का कहना है, ”वहां खाने के सामान और पानी की अभी भी बहुत कमी है। सारी दुकानें बंद हैं। बिजली नहीं रहने की वजह से रात में परेशानी कई गुना ज्यादा बढ़ जाती है।”

जीबी रोड के कोठा नंबर-50 में रहने वाली 24 साल की लड़की की कहानी | story of  24 year old girl lived in gb road delhi - Hindi Oneindia

भूकंप की त्रासदी झेल रहा नेपाल अब एक और नया दर्द झेल रहा है। गरीबी और पैसों की किल्लत की वजह से लोग अपनी बेटियों को बेच रहे हैं। कई लड़कियां परिवार को दुख में देख कर खुद को दलालों के हाथों सौंप रही हैं। नेपाल में इन दिनों लड़कियों और बच्चों को काम दिलाने के नाम पर कई दलाल हर इलाके में खासकर राहत शिविरों के आसपास घूम रहे हैं।

साल 2015 में नेपाल में आए भयंकर भूकंप की तबाही के बाद वहां लड़कियां और औरतें 50-100 रुपए में सैक्स करने के लिए राजी हो रही हैं। इस से नेपालियों में एड्स का खतरा तेजी से बढ़ रहा है।

पब्लिक अवेयरनैस फौर हैल्थफुल एप्रोच फौर लिविंग के मैडिकल डायरैक्टर और एड्स स्पैशलिस्ट डाक्टर दिवाकर तेजस्वी बताते हैं कि पिछले 7-8 महीनों में पटना स्थित उन की क्लीनिक में नेपाल से आए एड्स के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। रक्सौल, बीरगंज और जनकपुर आदि इलाकों के कईर् लोग एचआईवी की चपेट में आ गए हैं। भूकंप के बाद सबकुछ गवां चुकी औरतें और लड़कियां अपना जिस्म बेच कर अपनी जिंदगी चला रही हैं। सैक्स के दौरान सुरक्षा का उपाय नहीं करने से एचआईवी मरीजों की संख्या और बढ़नी तय है। नेपाल से पटना में उन की क्लीनिक में आए एचआईवी मरीजों की तादाद में 15 फीसदी का इजाफा हुआ है।

सक्रिय गिरोह :

दलाल आमतौर पर गरीब बच्चों के मांबाप को समझाते हैं कि वे बच्चों को मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, पटना जैसे शहरों में नौकरी पर लगवा देंगे। इस से अच्छा पैसा मिलेगा और उन की जिंदगी बदल जाएगी। खानेपीने की दिक्कत खत्म हो जाएगी। काम के साथ उन के बेटेबेटियों की पढ़ाई का भी इंतजाम कर दिया जाएगा। पढ़ने के बाद ज्यादा अच्छी नौकरी मिल जाएगी।

सुनसरी का रहने वाला जीवन थापा बताता है, ”मानव तस्करी में संलिप्त गिरोह पढ़ाई, खाना और बेहतर जीवन दिलाने का वादा करते हैं। भूकंप और गरीबी की दोहरी मार झेल रहे मांबाप आसानी से इन के झांसों में फंस जाते हैं। वे बेटियों को बेहतर जिंदगी देने और कुछ रुपयों के चक्कर में जानेअनजाने उन की जिंदगी को बदतर बना रहे हैं।”

ये है जीबी रोड के कोठा नंबर 50 में रहने वाली 24 साल की लड़की कहानी,आप भी  पढ़े,देखिए..... | ViralPostNews

गौरतलब है कि नेपाल और भारत के बीच 1,750 किलोमीटर लंबी खुली सीमा है। दोनों देशों के लोगों को एकदूसरे देश में आनेजाने के लिए पासपोर्ट की जरूरत नहीं पड़ती है। सीमा सुरक्षा बल के डीजी बंशीधर शर्मा कहते हैं, ”दोनों देशों के बीच कुल 26 चौकियां बनी हुई हैं और रोजाना करीब 10 हजार लोग आरपार होते हैं। इस के बाद भी पूरी चौकसी बरती जाती है। ट्रैफिकिंग के मामलों पर भी नजर रखी जाती है और इस बारे में किसी पर थोड़ा सा भी शक होने पर पूरी जांचपड़ताल की जाती है।”

डीजी बंशीधर आगे कहते हैं, ”बिहार और नेपाल का बौर्डर काफी संवेदनशील है। भारत और नेपाल के बीच रोटी और बेटी का रिश्ता होने की वजह से दोनों देशों के बीच काफी आवाजाही रहती है। ऐसे में संदिग्धों को पहचानने में जवानों को काफी परेशानी होती है। खुलीसीमा का फायदा गैरकानूनी लोग आसानी से उठाने की कोशिश करते रहते हैं। इसे रोकने के लिए सीमा सुरक्षा बल ने बौर्डर इंटरैक्शन टीम का गठन किया है। इस टीम के लोग सादी वरदी में लोगों से मिलतेजुलते रहते हैं और संदिग्धों पर नजर रख रहे हैं।”

दलालों की चांदी :

पूर्णियां कोर्ट के सीनियर वकील संजय कुमार सिन्हा कहते हैं, ”नेपाल में लड़कियों को बेचने व खरीदने का धंधा जोरों से चल रहा है। भूकंप से बदहाल नेपाल में खाने के लाले पड़े हुए हैं। सरकार असमंजस में है। ऐसे में लड़कियों को खरीद कर उन्हें वेश्यालयों तक पहुंचाने वाले दलालों की चांदी हो गई है।

नेपाली लड़कियां 3 से 15 हजार रुपए तक में बेच दी जाती हैं। गरीब पैसों के लालच या परिवार के बाकी लोगों की पेट की आग को बुझाने के लिए बेटियों को दरिंदों के हाथों बेच देते हैं। तस्कर उन लड़कियों को दिल्ली, मुंबई या कोलकाता के बाजारों में डेढ़ से ढाई लाख रुपए तक में बेच डालते हैं। वहां से ज्यादातर नेपाली लड़कियों को अरब, हौंगकौंग, जापान, कोरिया, अफ्रीका, मलयेशिया, थाइलैंड आदि देशों में पहुंचा दिया जाता है। वहां लड़की के सारे पासपोर्ट, वीजा, पहचानपत्र आदि दस्तावेजों को जब्त कर लिया जाता है, ताकि लड़की भाग न सके।”

काठमांडू और उस के आसपास के इलाकों में चल रही कई ट्रैवल एजेंसियां और मैरिज ब्यूरो संस्थाएं लड़कियों की तस्करी के खेल में शामिल हैं। ऐसा केवल काठमांडू में नहीं, बल्कि दुनियाभर में दलालों की नजर उन मजबूर परिवारों या लड़कियों पर रहती है। लड़कियों की शादी कराने, नौकरी दिलाने आदि का झांसा दे कर वे गरीब और भोलेभाले मांबाप को अपने जाल में फंसा लेते हैं। उन्हें समझाया जाता है कि गरीबी की वजह से वे अपनी बेटी का विवाह तो कर नहीं सकते हैं, ऐसे में मैरिज ब्यूरो के जरिए अच्छा लड़का मिल सकता है।

New Year 2020: New Year Celebration At Gb Road Red Light Area In Delhi -  दिल्ली की पांच सितारा कल्चर से परे इस रेड लाइट एरिया में कुछ खास अंदाज में  सेलिब्रेट

गरीबी की मार :

पोखरा का रहने वाला दिलीप थापा बताता है, ”मेरी बेटी दिव्या की शादी दिल्ली के किसी व्यापारी से कराने की बात कही गई थी। मैं ने ट्रैवल एजेंट की बात मान ली। गरीबी की वजह से मैं अपनी बेटी का विवाह किसी अच्छे लड़के से नहीं कर सकता था। इसलिए मैं बेटी को विवाह के लिए दिल्ली भेजने के लिए राजी हो गया। जब ट्रैवल एजेंट दिव्या को ले कर जाने लगा तो उस ने मेरे हाथ में 2 हजार रुपए थमाए थे। उसी समय मेरा माथा ठनका था कि उस ने

2 हजार रुपए क्यों दिए? रुपए तो मुझे देने चाहिए थे, पर कुछ कह नहीं सका।”

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *