Connect with us

फोटो

कोरोना के खिलाफ जंग! रेलवे के आइसोलेशन वॉर्ड में इतनी सुविधाएं, इसे कहते हैं तैयारी

Published

on

 

दक्षिणी रेलवे ने 573 रेलवे कोच को आइसोलेशन वॉर्ड में बदला है. ये काम टार्गेटेड टाइम के भीतर पूरा किया गया. कोविड-19 के खिलाफ जंग में रेलवे ने ये तैयारी की है. इसके लिए भारतीय रेलवे ने अलग-अलग रेलवे जोन के मेडिकल डिपार्टमेंट, आयुष्मान भारत और आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल सर्विसेज से सलाह ली और तब इसे तैयार किया गया है.

1/7

पहले 473 कोच को कन्वर्ट किया जाना था

isolation ward in railway coach

इसके तहत 5000 ICF design Non-AC (GS & GSCN) कोच, जो 15 साल से पुराने हो गए थे, उन्हें कन्वर्ट किया गया है. पहले 473 कोच को कन्वर्ट किया जाना था जिसे बाद में बढ़ा दिया गया. इसे 10 अप्रैल तक पूरा किया जाना था.

2/7

सबसे बड़ा टार्गेट

isolation ward in railway coach

ये किसी भी जोनल रेलवे को दिया गया सबसे बड़ा टार्गेट था. जो रेलवे बोर्ड ने दक्षिणी रेलवे को दिया.

3/7

6 डिविजन के 15 मुख्य डिपो में पूरा किया गया काम

isolation ward in railway coach

कनवर्जन का काम 6 डिविजन के 15 मुख्य डिपो में पूरा किया गया. ये हैं, चेन्नई, त्रिची, सालेम, मदुरई, पालघाट और तिरुवनंतपुरम.

4/7

प्लास्टिक के पर्दे

isolation ward in railway coach

मरीजों के आइसोलेशन के लिए प्लास्टिक के पर्दे लगाए गए हैं.

 

5/7

कई सुविधाएं होंगी

isolation ward in railway coach

एक्स्ट्रा मोबाइल चार्जिंग पॉइंट के साथ कई और सुविधाएं भी होंगी.

6/7

ऑक्सीजन सिलेंडर भी

isolation ward in railway coach

इनमें ऑक्सीजन सिलेंडर, वाटर पाइप, सोप डिसपेंसर भी रखे गए हैं.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.