Connect with us

कोरोना वायरस

साथ पैदा हुए…साथ जिए…और अब साथ मरे, मेरठ में 24वें जन्मदिन पर जुड़वां भाइयों की कोरोना से मौत

Published

on

जुड़वां भाइयों की कोरोना से मौत, 24वें जन्मदिन पर दुनिया से अलविदा

ग्रेगरी रेमंड राफेल को 23 अप्रैल, 1997 का याद है। इस दिन उनकी पत्नी सोजा अस्पताल में थीं। वह डॉक्टर के आकर खुशखबरी सुनाने का इंतजार कर रहे थे। डॉक्टर ने आकर उन्हें बताया कि उनके घर जुड़वां बेटे हुए हैं। रेमंड की खुशी का ठिकाना न रहा। वह अस्पताल से अपनी पत्नी और जुड़वां बेटों को खुशी से घर ले गए। वह 23 अप्रैल को अपनी जिंदगी का सबसे खुशी का दिन मानते थे। इस दिन के ठीक 24 साल बाद 24 अप्रैल को उनके दोनों बेटे बीमार पड़े और दोनों की 13 और 14 मई को मौत हो गई।

Corona Virus: Two Twin Engineers Brothers Died Of Corona In Meerut And Read Full Story - कोरोना का कहर: दो जुड़वां इंजीनियर्स भाइयों की कोरोना से मौत, साथ पैदा हुए, फिर साथ

रेमंड ने बताया कि उनके जुड़वां बेटे जोफ्रेड वर्गीज ग्रेगरी और राल्फ्रेड जॉर्ज ग्रेगरी ने अपना 24वां जन्मदिन मनाया था। उन्होंने बताया कि साथ में जन्म लेने के बाद हमेशा दोनों ने एक साथ हर काम किया। एक साथ सोते, खाते, खेलते, पढ़ाई और यहां तक कि दोनों ने कंप्यूटर इंजिनियरिंग भी साथ करके हैदराबाद में नौकरी भी एक साथ की। उन्हें नहीं बता था कि दोनों एक साथ बीमार होंगे और एक साथ ही इस दुनिया से विदा भी होंगे।

Deaths Due to COVID 19 in UP Computer Engineers Twin Brother Died in Meerut and Death of Brother of Central Government Minister Dr Sanjeev Baliyan in Muzaffarnagar

23 को मनाया 24वां जन्मदिन और खराब हुई तबीयत

रेमंड ने बताया कि 24 अप्रैल को दोनों बेटों की तबीयत खराब हुई। उन्हें कोरोना वायरस हुआ था। उन्हें दिल के कोने में यह डर था कि अगर कहीं किसी एक को कुछ हो गया था वह दूसरे को क्या जवाब देंगे। वहीं एक दूसरा डर यह भी था कि पैदा होने से लेकर 24वें. जन्मदिन तक उन्होंने कभी भी एक-दूसरे से अलग हटकर कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि वह जानते थे कि दोनों एक साथ ठीक होकर घर जाएंगे या फिर एक को कुछ हुआ तो दूसरा भी नहीं बचेगा।

जोफ्रेड वर्गीज ग्रेगरी और राल्फ्रेड जॉर्ज ग्रेगरी पिता, ग्रेगरी रेमंड राफेल और मां के साथ.

मां के मुंह से निकला, नहीं बचेगा राल्फ्रेड भी

राफेल ने बताया कि पहले जोफ्रेड की मौत हुई। जब इसकी खबर सोजा को हुई तो उसके मुंह से बस यही निकला कि अब राल्फ्रेड भी नहीं बचेगा। यही हुआ, कुछ घंटों बाद राल्फ्रेड के मरने की खबर भी आई। उन्होंने कहा,’वे हमें एक बेहतर जिंदगी देना चाहते थे। हम लोगों ने टिचिंग करके बच्चों को पाला-पोसा। बहुत संघर्ष किया। दोनों ने हैदराबाद से कोरिया और फिर जर्मनी जाने की योजना बना रहे थे। मुझे नहीं पता कि भगवान ने हमें इस तरह सजा क्यों दी।’

Meerut Twin Brothers Die Due To Covid-19 Apart After 24th Birthday | जुड़वा भाईयों की कोरोना से मौत, साथ हुए पैदा, 24वां जन्मदिन मना कर तोड़ा दम | NewsTrack

राल्फ्रेड ने मां से कहा झूठ बोल रही हो और…

राल्फ्रेड ने अपना आखिरी फोन अपनी मां को किया था। उसने उससे कहा कि वह ठीक हो रहा है और जोफ्रेड के स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ की। तब तक जोफ्रेड की मौत हो चुकी थी। घरवालों ने उसे नहीं बताया कि वह मर चुका है। उन लोगों ने कहा कि जोफ्रेड को दिल्ली के अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है लेकिन राल्फ्रेड ने अपनी मां से कहा, ‘तुम झूठ बोल रही हो’ और फोन काट दिया।

रिश्‍तेदारों से उधार लेकर अस्‍पताल का बिल चुकाया Repayment made by borrowing from relatives

आरटीपीसीआर रिपोर्ट आ गई थी निगेटिव

मेरठ के छावनी क्षेत्र के निवासी, परिवार ने शुरू में भाइयों का घर पर इलाज किया, यह सोचकर कि बुखार कम हो जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ग्रेगरी ने कहा कि जुड़वा बच्चों को 1 मई को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी पहली रिपोर्ट में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। कुछ दिनों बाद उनकी दूसरी आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी। डॉक्टर उन्हें कोविड वार्ड से आईसीयू में ले जाने की योजना बना रहे थे।
SOURCE : NBT

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *