Connect with us

विशेष

मां की गोद में सहमे बच्‍चे, अपनों के गले लग छलकते आंसू… यूक्रेन की ये तस्‍वीरें दिल बैठा रही हैं

Published

on

Children in mother's lap, tears spilling on their loved ones... these pictures of Ukraine are heart-wrenching

रुला रहीं जंग के शिकार यूक्रेन की ये तस्‍वीरें

रुला रहीं जंग के शिकार यूक्रेन की ये तस्‍वीरें

रूस के हमले का सामना कर रहे यूक्रेन में अफरातफरी है। राजधानी कीव में गुरुवार सुबह से ही रह-रहकर धमाके सुने जा रहे हैं। तस्‍वीरों में देखिए, यूक्रेन में युद्ध के समय कैसे हालात हैं। (तस्‍वीरें : AP/REUTERS/Getty Images)

गोद में सो गया बच्‍चा पर मां को नींद कहां

मैरियुपोल में बने एक शेल्‍टर की यह तस्‍वीर यूक्रेन के हालात बयां करती हैं। बच्‍चा अपनी मां की गोद में सुरक्षित महसूस करते हुए सो रहा है मगर मां की आंखों से नींद गायब है। उसे चिंता सता रही है भविष्‍य की।

 

 

बॉम्‍ब शेल्‍टर में हजारों ने ले रखी है शरण

बॉम्‍ब शेल्‍टर में हजारों ने ले रखी है शरण

कीव में सैकड़ों इमारतों के बेसमेंट्स को बॉम्‍ब शेल्‍टर की तरह इस्‍तेमाल किया जा रहा है। इन्‍हीं में से एक में अपनी बेटी से लिपटी इस महिला के माथे पर चिंता की लकीरें साफ देखी जा सकती हैं।

बस किसी तरह सलामत रहें अपने

बस किसी तरह सलामत रहें अपने

यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन में युद्ध के खिलाफ एक रैली निकली। यहां यूक्रेनी भाषा पढ़ाने वाली सोफिया ने अपनी स्‍टूडेंट ओलेना को गले लगा लिया। दोनों यूक्रेन से हैं।

बस कैसे भी यहां से निकल जाने की जद्दोजहद

बस कैसे भी यहां से निकल जाने की जद्दोजहद

लोग किसी अनहोनी से बचने के लिए पलायन कर रहे हैं। पिता की गोद में बैठी यह बच्‍ची पूर्वी यूक्रेन के खारकिव से ट्रेन के जरिए पोलैंड पहुंची है।

रूस के खिलाफ प्रदर्शन में छलक रहे आंसू

रूस के खिलाफ प्रदर्शन में छलक रहे आंसू

तस्‍वीर पोलैंड के कैटोवाइस की है। यहां गुरुवार को रूस के मिलिट्री ऑपरेशन के खिलाफ प्रदर्शन करने लोग जमा हुए।

दिन-रात जाग रही हैं यूक्रेन की मांएं

दिन-रात जाग रही हैं यूक्रेन की मांएं

यूक्रेन में मांओं को अब नींद नहीं आती। कीव के सबवे में बने बॉम्‍ब शेल्‍टर में मौजूद लोग बस संकट टल जाने की दुआ कर रहे हैं।

कीव में लगा दिया गया है कर्फ्यू

कीव में लगा दिया गया है कर्फ्यू

यूक्रेन की राजधानी कीव में कर्फ्यू लगा दिया गया है। उससे पहले लोगों ने सबवे में शरण ली।

दूर बसे यूक्रेनी भी हाल देखकर गमजदा

दूर बसे यूक्रेनी भी हाल देखकर गमजदा

नतालिया कुर्ची का परिवार 2015 में यूक्रेन से अमेरिका चला आया था। गुरुवार को एक प्रदर्शन के दौरान जब उन्‍होंने बेटी एलेक्‍स को लगे लगाया तो आंखों से आंसू छलक आए।

धमाकों के बीच फोन पर ले रहे अपडेट

धमाकों के बीच फोन पर ले रहे अपडेट

शेल्‍टर में मौजूद लोग किसी तरह सब कुछ सामान्‍य हो जाने की दुआ कर रहे हैं। लोग मोबाइल पर रूस-यूक्रेन युद्ध की हर अपडेट ले रहे हैं।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.