Connect with us

दुनिया

Coronavirus: घर से बाहर निकलने पर लगेगा जुर्माना, फ्रांस सरकार ने जारी किया आदेश

Published

on

पेरिस। चीन के वुहान शहर से निकलकर कोरोना वायरस ( coronavirus ) ने दुनिया के 160 से अधिक देशों में पैर पसार लिए हैं और अब तक 7500 से अधिक लोगों की जान ले चुका है। कोरोना वायरस से दुनियाभर में 1.7 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं और वायरस का खतरा धीरे-धीरे लगातार बढ़ता जा रहा है।

इसी क्रम में यूरोपीय देशों ( European Country ) में भी कोरोना कहर बनकर टूट पड़ा है। इसमें फ्रांस ( Coronavirus In France ) भी शामिल है। फ्रांस में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार ने एहतियातन कई सख्त कदम उठाए हैं।

अब फ्रांस सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है। दरअसल, सरकार ने लोगों के घर से गैर-जरूरी बाहर निकलने पर बैन लगा दिया है। इतना ही नहीं, इस आदेश का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना भी लगाने के आदेश दिए गए हैं।

13 हजार रुपये लगेगा जुर्माना

फ्रांस सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि जो भी नागरिक इस आदेश को मानने से इनकार करेगा और बिना किसी बेहद जरूरी काम के बाहर निकलेगा, उससे 135 यूरो (12,876 रुपये) जुर्माना वसूला जाएगा।

इस फैसले को लेकर आंतरिक मंत्री क्रिस्टोफ कास्टानेर ने कहा कि अपराधियों के लिए जुर्माना जल्द ही 135 यूरो ($ 150) निर्धारित किया जाएगा। इस फैसले को सही तरीके से लागू करने के लिए 100,000 सिविल सेवकों और सैनिकों को पूरे देश में तैनात किया जाएगा।

कोई भी नागरिक घर से बाहर निकलता है तो उसे सटीक कारण भी बताना होगा और इसके साथ ही एक फॉर्म भी भरना होगा। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, दोपहर 12 बजे स्थानीय समय (सुबह 11 बजे जीएमटी) से घर से बाहर निकलने पर किसी भी व्यक्ति को फॉर्म पर स्वीकृत पांच कारणों में से एक को बताना होगा और उसका प्रमाण अपने पास रखना होगा।

इन पांच कारणों से घर से बाहर निकलने पर छूट

सरकार ने कहा है कि कोई भी नागरिक मूलभूत सुविधाओं के लिए घर से बाहर निकल सकता है। इसके लिए पांच कारण निर्धारित किए गए हैं। जिन पांच कारणों को इस पाबंदी से छूट दी गई है, उसमें मूलभूत आवश्यकताओं के लिए अधिकृत दुकान जाना, स्वास्थ्य कारणों के लिए यात्रा, परिवार के लिए तत्काल कारणों से यात्रा, कमजोर या बच्चे की देखभाल के लिए और व्यक्तिगत आधार पर व्ययाम के लिए घर के करीब जाना शामिल है।

नागरिकों को जो फॉर्म भरना होगा उसका नाम ‘अटैचमेंट डी डेप्लेमेंट डार्गैटोएयर’ रखा गया है। इसे कोई भी नागरिक आंतरिक मामलों के मंत्रालय की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकता है। यदि किसी के पास डाउनलॉड करने की सुविधा नहीं है, तो वह सादे कागज पर भी मूल कारण बताकर बाहर जा सकता है। इस सादे कागज को एक शपथ पत्र माना जाएगा।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.