Connect with us

विशेष

जानिए आप पर क्‍या होगा असर, पेट्रोल पर 2.50 रुपये और डीजल पर 4 रुपये का लगा कृषि सेस

Published

on

पेट्रोल, डीजल पर लगा सेस, जानिए आप पर क्‍या होगा असर

नई दिल्‍ली: सरकार ने इस बजट में इनकम टैक्‍स की स्‍लैब में कोई बदलाव नहीं किया है लेकिन कृषि पर सेस लगाया जाएगा. बजट में एग्री इंफ्रा डेवलपमेंट सेस लगाया गया है. इसके साथ ही पेट्रोल पर 2.5 रुपये प्रति लीटर कृषि सेस और डीजल पर 4 रुपये प्रति लीटर कृषि सेस लगाया गया है. हालांकि इससे आपकी जेब पर कोई असर नहीं पड़ेगा. सरकार ने साफ किया है कि सेस लगाने से पेट्रोल और डीजल की दामों में बढ़ोतरी नहीं होगी.

इसके साथ ही वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2021 में ऐलान करते हुए कहा है कि इनकम टैक्‍स की स्‍लैब जस की तस बनी रहेंगी. यानी इस बार इनकम टैक्‍स स्‍लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया. हालांकि एग्री इंफा डेवलपमेंट सेस लगाया जाएगा.

पेट्रोल पर 2.50 रुपये और डीजल पर 4 रुपये का लगा कृषि सेस, ग्राहकों पर नहीं पड़ेगा असर - Union Budget 2021 Petrol Diesel Agriculture cess Modi Government - AajTak

उज्ज्वला योजना में एक करोड़ और लाभार्थी होंगे शामिल
सरकार ने सोमवार को कहा कि मुफ्त रसोई गैस एलपीजी योजना (उज्ज्वला) का विस्तार किया जाएगा तथा एक करोड़ और लाभार्थियों को इसके दायरे में लाया जाएगा. वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण ने सोमवार को इसकी घोषणा की.

वित्त मंत्री ने 2021-22 के लिए आम बजट पेश करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान ईंधन की अबाधित आपूर्ति जारी रखी गयी. उन्होंने कहा कि घरों में पाइप के जरिए गैस पहुंचाने और वाहनों को सीएनजी मुहैया कराने के सिटी गैस वितरण नेटवर्क का विस्तार कर 100 और जिलों को इसके दायरे में लाया जाएगा.

उन्होंने गैस आधारित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए सामान्य वहन क्षमता के नियमन की खातिर परिवहन प्रणाली आपरेटर (टीएसओ) की भी घोषणा की.

Fuel Prices: Coronavirus effect, petrol and diesel prices not changed | Fuel Price: कोरोनावायरस का असर, पेट्रोल और डीजल के नहीं बदले गए दाम - दैनिक भास्कर हिंदी

 

स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए 2.24 लाख करोड़ रुपये का प्रावधान
सरकार ने 2021-22 के लिए स्वास्थ्य और कल्याण के क्षेत्र के लिहाज से सोमवार को 2,23,846 करोड़ रुपये के बजट परिव्यय का प्रस्ताव रखा. इसमें मौजूदा वित्त वर्ष के 94,452 करोड़ रुपये के बजट परिव्यय की तुलना में 137 प्रतिशत का इजाफा प्रस्तावित है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में अगले वित्त वर्ष के लिए कोविड-19 के टीकों के लिहाज से 35,000 करोड़ रुपये के परिव्यय का प्रस्ताव भी रखा तथा देशभर में न्यूमोकोकल टीकों को उपलब्ध कराये जाने की घोषणा भी की जिससे हर साल 50,000 से अधिक बच्चों की जान बचाई जा सकेगी.

वित्त मंत्री ने 2021-22 के लिए आम बजट प्रस्तुत करते हुए कहा, ‘‘मैंने 2021-22 के लिए कोविड-19 टीकों के वास्ते 35,000 करोड़ रुपये का प्रावधान रखा है. मैं जरूरत पड़ने पर और धन देने की प्रतिबद्धता जताती हूं.’’

उन्होंने कहा कि भारत पहले ही कोविड-19 के दो टीकों के इस्तेमाल की मंजूरी दे चुका है और देश में जल्द ही दो और टीकों को टीकाकरण अभियान में शामिल किया जा सकता है. न्यूमोकोकल टीका निमोनिया, सेप्टीसीमिया और मेनिन्जाइटिस जैसे घातक संक्रमणों के खिलाफ प्रभावी होता है.

वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘भारत में निर्मित न्यूमोकोकल का टीका अभी केवल पांच राज्यों में ही सीमित है. इसे पूरे देश में उपलब्ध कराया जाएगा.’’ सीतारमण ने कहा कि इससे देश में हर साल 50,000 से अधिक बच्चों की जान बचाई जा सकेगी.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *