Connect with us

लाइफ स्टाइल

RBI ला रहा है 100 रुपये का चमचमाता नया नोट… न फटेगा और न पानी में गलेगा…जानिए खासियत

Published

on

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) 100 का नया नोट (Rs.100 Currency) लाने जा रहा है. खास बात यह है कि नया नोट चमकदार होगा और यह खासा टिकाऊ भी होगा. वार्निश लगे इस नोट को पहले ट्रायल के तौर पर जारी किया जाएगा. बाद में इसे बड़े पैमाने पर उतारा जाएगा.

न फटेगा, न पानी में खराब होगा 

RBI ने अपनी सालाना रिपोर्ट में बताया है कि वार्निश पेंट होने के कारण नया नोट ना तो फटेगा और ना ही पानी में गलेगा. लिहाजा इस नोट को ज्यादा संभालकर रखने की जरूरत नहीं होगी. दरअसल, रिजर्व बैंक को हर साल लाखों-करोड़ रुपये के गंदे या कटे-फटे नोट रीप्लेस करने पड़ते हैं. इस समस्या से निजात पाने के लिए दुनिया के कई देश प्लास्टिक नोटों (Plastic Note) का इस्तेमाल करते हैं. अब भारतीय रिजर्व बैंक ने भी इसे आजमाने का फैसला लिया है.

दृष्टिबाधितों के लिए नोट में किए जाएंगे बदलाव 

इस नोट की डिजाइन भी खास होगी, ताकि दृष्टिबाधित लोग भी इसे आसानी से पहचान सकें. इसके अलावा नोटों की क्वालिटी बेहतर करने के लिए आरबीआई ने मुंबई में बैंकनोट क्वालिटी एस्योरेंस लेबोरेटरी की स्थापना भी की है.

Rbi Bank Note Rs 100 (1) Compressed (1)

देश में बढ़े नकली नोट 

सालाना रिपोर्ट में 100 के नए नोट के अलावा भी आरबीआई ने कई अहम जानकारियां दी हैं. इसमें बताया गया है कि देश में पिछले साल की तुलना में इस साल नकली नोटों की संख्या में वृद्धि देखी गई है. 10 के जाली नोट 20.2%, 20 के जाली नोट 87.2%और 50 के 57.3% जाली नोट पकड़े गए हैं. 500 और 2,000 के नकली नोट भी पकड़े गए हैं. बल्कि नोटबंदी के बाद जारी किए गए 500 रुपये के जाली नोटों में 121.10% और 2,000 के जाली नोटों में 21.9% की तेजी देखी गई है. वहीं 100 के जाली नोटों में पहले से गिरावट आई है जो कि अब घटकर केवल 7.5% ही रही.  ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि 100 के नए नोट हाल में जारी किए गए हैं.

नोटों की क्वालिटी बेहतर बनाने पर जोर

नोटों की क्वालिटी बेहतर हो, इसके लिए आरबीआई ने मुंबई में बैंकनोट क्वालिटी एस्योरेंस लेबोरेटरी की स्थापना की है. इस लेबोरेटरी का काम नोटों को अपग्रेड करने और स्टैंडर्ड बढ़ाने पर जोर देना है. देश के अलग-अलग प्रेस नोट में नोट छपते हैं, उन सबका स्टैंडर्ड एक हो और सभी सुरक्षा के मानकों का ध्यान रखा जा सके, बैंकनोट क्वालिटी एस्योरेंस लेबोरेटरी इस पर काम करता है.

सालाना रिपोर्ट में आरबीआई ने बताया है, पिछले साल की तुलना में इस साल नकली नोटों की संख्या में वृद्धि देखी गई है. 10 के जाली नोट 20.2 परसेंट, 20 के जाली नोट 87.2 परसेंट और 50 के जाली नोट 57.3 परसेंट पकड़े गए हैं. 500 और 2,000 के नकली नोट भी पकड़े गए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, 500 रुपये (नोटबंदी के बाद शुरू हुए नए नोट) के जाली नोटों में 121.10 परसेंट और 2,000 के जाली नोटों में 21.9 परसेंट की तेजी देखी जा रही है. हालांकि एक अच्छी बात यह है कि 100 के जाली नोटों में पहले से गिरावट है और इसमें 7.5 परसेंट की कमी देखी गई है. ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि 100 के नए नोट हाल में जारी किए गए हैं.

100 रुपये का नया नोट News in Hindi, 100 रुपये का नया नोट की लेटेस्ट न्यूज़, photos, videos | Zee News Hindi

सिक्योरिटी प्रिंटिंग पर कितना खर्च

1 जुलाई, 2020 से 31 मार्च 2021 तक सिक्योरिटी प्रिंटिंग पर कुल 4,012.1 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. पिछले साल जुलाई 2019 से जून 2020 तक सिक्योरिटी प्रिंटिंग पर 4,377.8 करोड़ रुपये खर्च हुए थे. जाली नोटों के बारे में रिजर्व बैंक ने कहा कि कुल नकली नोटों में 3.9 परसेंट रिजर्व बैंक में जबकि 96.1 परसेंट अन्य बैंकों में पाए गए थे. 2020-21 के दौरान कुल 2,08,625 जाली नोट पकड़ में आए. 2019-20 में यह संख्या 2,96,695 थी और 2018-19 में 3,17,384 थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल की तुलना में इस साल नोटों की आवक 9.7 परसेंट कम हुई है. पिछले साल से इस साल देखें तो बैंक नोट की सप्लाई 0.3 परसेंट कम हुई है.

अर्थव्यवस्था में कितने नोट

बाजार में जितने नोट हैं, उनमें किस नोट की कितनी मात्रा है, रिजर्व बैंक ने इसके बारे में भी बताया है. वैल्यू टर्म में देखें तो 500 और 2,000 के बैंक नोट 85.7 परसेंट चलन में हैं. यानी कि देश में जितने बैंक नोट चलन में हैं, उनमें 85.7 परसेंट 500 और 2,000 के नोट हैं. 31 मार्च, 2020 को यह मात्रा 83.4 परसेंट थी. रिपोर्ट में यह बात कही गई है. वॉल्यूम के हिसाब से देखें तो 500 के नोट का शेयर सबसे ज्यादा है और यह 31.1 परसेंट के आसपास है. उसके बाद 10 रुपये का नोट आता है जिसका वॉल्यूम 23.6 परसेंट है. नोटों की यह मात्रा 31 मार्च, 2021 के चलन के हिसाब से बताई गई है.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *